England vs Pakistan Match: मेलबर्न में मंडरा रहे काले बादल, क्या फाइनल के रोमांच पर पानी फेर देगी बारिश?

England  vs Pakistan Match: मेलबर्न में मंडरा रहे काले बादल, क्या फाइनल के रोमांच पर पानी फेर देगी बारिश?
Ro No. 12294/64

Ro No. 12276/69

Ro No. 12276/69
Ro No. 12294/64

Ro No. 12276/69

Ro No. 12276/69
Ro No. 12294/64

Ro No. 12276/69

Ro No. 12276/69

इंग्लैंड और पाकिस्तान के बीच टी-20 वर्ल्ड कप 2022 का फाइनल मुकाबला आज मेलबर्न में होना है। हालांकि, मेलबर्न से आ रहीं खबरें क्रिकेट फैंस के लिए बहुत अच्छी नहीं हैं। वेदर रिपोर्ट की मानें तो मेलबर्न में भयंकर काले बादल छाए हुए हैं और बारिश की पूरी संभावना है।

मेलबर्न: मेलबर्न में इस समय बूंदाबांदी हो रही है और काले बादल पूरे शहर पर मंडरा रहे हैं। इसकी पूरी संभावना है कि पाकिस्तान और इंग्लैंड के बीच आज होने वाले टी20 विश्व कप 2022 के फाइनल का मजा भी किरकिरा होगा। वेदर रिपोर्ट के समयानुसार 80-90% संभावना है कि शाम 5:30 बजे से शुरू होने वाली नॉन-स्टॉप बारिश मैच के दौरान होती रहेगी। अगर ऐसा हुआ तो मुकाबले को सोमवार को रिजर्व डे में स्थानांतरित किया जा सकता है।

मेलबर्न में आंधी और बारिश की पूरी संभावना

ऑस्ट्रेलिया एमईटी विभाग ने भविष्यवाणी की है, 'पूरा दिन बादलों से घिरा रहेगा। संभावना बहुत अधिक (100% के करीब) बारिश की संभावना। आंधी की भी संभावना है। अगर आंधी नहीं आई तो भी हवाएं तेज चलेंगी।' रिजवर्ड डे पर खेल को पूरा करने के लिए अतिरिक्त दो घंटे के साथ दोपहर 3 बजे (स्थानीय समय) का स्लॉट आवंटित किया गया है। बता दें कि पाकिस्तान ने न्यूजीलैंड को, जबकि इंग्लैंड ने भारत को सेमीफाइनल में हराकर फाइनल में प्रवेश किया है।

पाकिस्तान vs इंग्लैंड फाइनल के लिए रिजर्व डे पर क्या है हाल

हालांकि, क्रिकेट फैंस को निराश करने वाली बात यह है कि रिजवर्ड डे पर भी बरिश की पूरी संभावना है। मौसम विभाग ने सोमवार को बारिश (5 से 10 मिमी) की 95 प्रतिशत संभावना का अनुमान लगाया है। इस साल की शुरुआत में मौसम विज्ञान ब्यूरो के लंबी दूरी के पूर्वानुमान के प्रमुख एंड्रयू वाटकिंस ने ला नीना के पूर्वी तट से टकराने के बारे में चेतावनी दी थी।

वाटकिन्स ने पिछले महीने एबीसी को बताया था, 'फिलहाल, यह ला नीना (हर तीन वर्ष में आता है। इसके आने से बारिश और ठंड बढ़ जाती है।) विशेष रूप से मजबूत नहीं दिख रहा है और ऐसा लग रहा है कि यह शायद गर्मियों में या वसंत के अंत में चरम पर पहुंच जाएगा। जो थोड़ा असामान्य है, ला नीना से थोड़ा अलग है जिसे हम हाल के वर्षों में देख रहे हैं।'