तीन देशों की यात्रा कर भारत लौटे PM मोदी, दिल्ली एयरपोर्ट पर हुआ भव्य स्वागत

तीन देशों की यात्रा कर भारत लौटे PM मोदी, दिल्ली एयरपोर्ट पर हुआ भव्य स्वागत
RO No.12784/129

RO No.12784/129

RO No.12784/129

नई दिल्ली। तीन देशों की पांच दिवसीय विदेश यात्रा के बाद भारत वापस लौटने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पालम एयरपोर्ट पर भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा जोरदार स्वागत किया गया। जापान, पापुआ न्यू गिनी और ऑस्ट्रेलिया की यात्रा के बाद भारत लौटे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करते हुए नड्डा ने कहा, जिस तरीके से बीते पांच दिन में प्रधानमंत्री मोदी ने भारत की छवि को आगे बढ़ाया है वो गौरवान्वित करता है। वे सभी की ओर से प्रधानमंत्री का हार्दिक अभिनन्दन और स्वागत करते हैं। उन्होंने कहा कि जहां भी प्रधानमंत्री गए, वहां के इंडस्ट्री लीडर्स, साइंटिस्ट और गणमान्य नेता उनसे मिलने को आतुर रहे और उन्होंने प्रधानमंत्री के साथ गवर्नेंस पर चर्चा की, यह भी भारत के लिए सौभाग्य की बात है। प्रधानमंत्री की इस यात्रा के दौरान विदेशी नेताओं ने जिस तरीके से उनको आदर दिया, सम्मान दिया वो यह बताता है कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व के प्रति उनमें किस प्रकार का विश्वास है। स्वागत करने के लिए एयरपोर्ट पहुंचे भाजपा नेताओं, कार्यकर्ताओं एवं केंद्रीय मंत्रियों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि, इस यात्रा के दौरान उनके पास जितना समय था, उसका पल-पल उन्होंने देश की बात करने में, देश की भलाई के लिए निर्णय करने में उपयोग किया। उन्हें 40 से अधिक महत्वपूर्ण व्यक्तियों के साथ मुलाकात का मौका मिला। प्रधानमंत्री ने कहा कि वे दुनिया के देशों में जाकर , दुनिया के महापुरुषों से मिल कर हिंदुस्तान के सामथ्र्य की बात करते हैं, हिंदुस्तान की युवा पीढ़ी के टैलेंट की चर्चा करते हैं और अवसर मिलने पर भारत के नौजवान कैसा पराक्रम कर के दिखलाते हैं, ये भी दुनिया में जा कर बतलाते हैं। देश की महान संस्कृति का गौरवगान करते हुए वे आंखें नीची नहीं करते हैं, आंखें मिला कर बात करते हैं। उन्होंने कहा कि वे ऐसा इसलिए कर पाते हैं, क्योंकि देश के लोगों ने एक पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनाई है। ऑस्ट्रेलिया की यात्रा का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि, वहां पर भारतीय समुदाय के कार्यक्रम में ऑस्ट्रेलिया के पीएम का आना, हम सभी के लिए गौरव की तो बात है ही, लेकिन इतना ही नहीं, उस समारोह में पूर्व प्रधानमंत्री भी थे, विपक्ष के सांसद थे, सत्ता पक्ष के सांसद थे। सब के सब मिलजुल कर भारतीय समुदाय के इस कार्यक्रम में शामिल हुए थे। ये यश मोदी का नहीं है, हिंदुस्तान के पुरुषार्थ का है, 140 करोड़ हिन्दुस्तानियों के जज्बे का है। प्रधानमंत्री ने कहा, मैं आप से भी यही कहूंगा कि हिंदुस्तान की संस्कृति, महान परंपरा के बारे में बोलते हुए कभी भी गुलामी वाली मानसिकता में डूब मत जाना, हिम्मत के साथ बात कीजिए, दुनिया सुनने को आतुर है। जब मैं यह कहता हूं कि हमारे तीर्थ क्षेत्रों पर हमले स्वीकार नहीं हैं, तो दुनिया भी मेरे साथ दिखती है।उन्होंने कहा कि देश के अलग-अलग इलाकों में जी-20 को लेकर जो बैठकें हो रही हैं, उसकी दुनियाभर में तारीफ हो रही है। खासतौर से जी-7 देशों के जिन नेताओं के साथ भी उनकी मुलाकात हुई, उन्होंने भारतीयों के व्यवहार की जबरदस्त तारीफ की। उन्होंने कोविड के संकटकाल में देश के अंदर विपक्षी दलों द्वारा किए गए व्यवहार की आलोचना करते हुए कहा कि उस समय विपक्ष उनसे हिसाब मांगता था कि वो दुनिया के अन्य देशों को कोविड वैक्सीन क्यों दे रहे हैं, जबकि आज इसी वजह से दुनिया के कई देशों और उनके नागरिकों की नजर में भारत और भारतीयों की प्रतिष्ठा बढ़ी है। आज दुनिया के हर कोने से यह आवाज आ रही है कि वैश्विक संकट और समस्याओं के समाधान में भारत मदद करें, अपने स्टैंड के बारे में बताए।