दुर्ग  के आशुतोष बैनर्जी व रायपुर के तनिषा ड्रोलिया को मिला राज्य चैंपियन का खिताब

दुर्ग  के आशुतोष बैनर्जी व रायपुर के तनिषा ड्रोलिया को मिला राज्य चैंपियन का खिताब
RO No.12784/129

RO No.12784/129

RO No.12784/129

प्रतिभावान शतरंज खिलाड़ी को आगे  बढ़ने में आर्थिक स्थिति नही बनेगी बाधा - डॉ संपत अग्रवाल 

दुर्ग  / किसी भी प्रतिभावान शतरंज खिलाड़ी को आगे बढ़ने में कभी भी उनकी आर्थिक स्थिति बाधा नहीं बनेगी। हमारी नीलांचल सेवा समिति उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान कर आगे बढ़ाने भरसक प्रयास करेगी। खिलाड़ी केवल अपने खेल पर ध्यान केंद्रित करें।उक्त बातें विधायक डॉ संपत अग्रवाल ने अपने उदबोधन में कही।राज्य शतरंज संघ के निर्देशन तथा महासचिव विनोद राठी के कुशल मार्गदर्शन में जिला शतरंज संघ महासमुंद द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय फीडे रेटेड पुरुष एवम महिला शतरंज चैंपियनशिप में विधायक
डॉ  संपत अग्रवाल पिथौरा  पुरस्कार वितरण एवं समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि पधारे थे।
 इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता भूतपूर्व जनपद पंचायत  अध्यक्ष  सतपाल सिंह छाबड़ा ने की। विशिष्ट अतिथि के रूप में विधायक प्रतिनिधि अनूप अग्रवाल,मंडल अध्यक्ष नरेश सिंघल,स्वप्निल तिवारी, छबीराम रात्रे ,रविंदर आजमानी,जाकिर कुरैशी ,राज्य शतरंज संघ के सचिव एवं टूर्नामेंट  डायरेक्टर हेमन्त खुटे व जिला शतरंज संघ के अध्यक्ष डॉ डी एन साहू मंचासीन थे।
 विशिष्ट अतिथि नरेश सिंघल ने विजेता खिलाड़ियों को तथा आयोजन समिति को प्रतियोगिता के कुशल संचालन व बेहतरीन मैनेजमेंट के लिए बधाइयां दी। विशिष्ट अतिथि स्वप्निल तिवारी ने जिला शतरंज संघ के कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि महासमुंद जिला में विगत कई वर्षों से  शतरंज  के राज्य स्तरीय आयोजन होते आ रहा  है जिसके चलते शतरंज के क्षेत्र में जिले की एक विशिष्ट पहचान प्रदेश में बनी है । उन्होंने  राज्य सचिव हेमंत खुटे को पूरे प्रदेश में शतरंज खेल को बढ़ावा देने तथा उनके द्वारा किए जा रहे प्रयासों की सराहना की। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे सतपाल सिंह छाबड़ा ने कहा कि शतरंज दिमागी खेल है ।इसे खेलने से आई क्यू लेवल बढ़ता है तथा सोचने समझने की क्षमता का विकास होता है इसलिए शतरंज खेल को ज्यादा से ज्यादा बढ़ावा देना चाहिए।
कार्यक्रम संयोजक ईश्वर सिंह राजपूत ने  जानकारी देते हुए बताया कि  स्पर्धा में मेन प्राइज के तहत टॉप 10 खिलाड़ियों को नगद राशि व ट्रॉफी दिया गया जिनके नाम इस प्रकार है - 
पहला  आशुतोष बैनर्जी  दुर्ग (8 अंक)  दूसरा  स्पर्श खंडेलवाल राजनांदगांव (7.5 अंक)  तीसरा शुभम सिंह रायगढ़ (7.5 अंक)  चौथा यशद बांबेश्वर  दुर्ग (7 अंक ) पांचवा शेख इदू दुर्ग (7 अंक) छटवां  रोहित साहू बलौदाबाज़ार  (7 अंक) सातवां गगन साहू रायगढ़ (7 अंक) आठवां रूपेश कुमार मिश्रा बिलासपुर (7 अंक) नौवा  राहुल शर्मा दुर्ग (7 अंक) दसवां प्रसन्न शुक्ला  बलौदाबाजार (6.5 अंक )
वूमेन कैटेगरी में 8 महिला खिलाडियों का पुरस्कृत किया गया जिनके नाम क्रमश: इस प्रकार है -
पहला तनिषा ड्रोलिया रायपुर (6 अंक) दूसरा प्राची यादव रायपुर (5.5 अंक)
तीसरा हिमानी देवांगन दुर्ग (5.5 अंक)
चौथा चरनजीत कौर दुर्ग (5.5 अंक)
पांचवा धारिणी साहू बालोद ( 5.5 अंक) छटवां अदिति बसंत (5 अंक) 
सांतवा  अदिति आदिल्य रायपुर (5 अंक) अद्विका पाण्डेय  रायपुर (5 अंक)।  उक्त कार्यक्रम के सातवें,आठवें व नौवे राउंड में गेस्ट ऑफ़ द डे के रूप में क्रमश:प्राचार्य  मुकेश डडसेना , मिलेनियर कौशल्या नायक, डॉ पार्वती प्रधान ने अपनी गरिमामयी उपस्थिति दी। जिला शतरंज संघ के उपाध्यक्ष संजय श्रीवास्तव व कार्यकारी सदस्य लोकनाथ पटेल ने  व राज्य शतरंज संघ के संयुक्त सचिवद्वय ईश्वर सिंह राजपूत,सुबोध कुमार सिंह ने आयोजन को सफल बनाने में अहम भूमिका निभाई। खेल एवं युवा कल्याण विभाग के जिला खेल अधिकारी मनोज धृतलहरे का कुशल मार्गदर्शन मिला। पुरस्कार वितरण एवं समापन समारोह  कार्यक्रम का संचालन संतोष गुप्ता ने तथा आभार प्रदर्शन टूर्नामेंट डायरेक्टर हेमन्त खुटे ने किया।
उल्लेखनीय है कि इस स्पर्धा में विजेता खिलाड़ियों के लिए  कुल इनक्यांवे हजार की नगद राशि पुरस्कार स्वरूप रखा गया था। विश्व शतरंज महासंघ व अखिल भारतीय शतरंज महासंघ ने इस स्पर्धा को अंतर्राष्ट्रीय मान्यता प्रदान की गई थी। खिलाड़ी को  फीडे रेटिंग स्पर्धा  के आधार पर ही उनके बेस्ट परफोर्मेंस  के लिए इंटरनेशनल रेटिंग दी जाती है।ज्ञात हो कि यह आयोजन अखिल भारतीय शतरंज महासंघ के निर्देशन व छत्तीसगढ़ प्रदेश शतरंज संघ के मार्गदर्शन तथा  खेल एवं युवा कल्याण विभाग छत्तीसगढ़ शासन के विशेष सहयोग से जिला शतरंज संघ महासमुंद  द्वारा संपन्न कराया गया।  इस दोनों कैटेगरी के टॉप 4 - टॉप 4 एन खिलाड़ी राष्ट्रीय चयन स्पर्धा में प्रदेश का प्रतिनिधित्व करेंगे। अंतर्राष्ट्रीय निर्णायक अनीस अंसारी ने प्रतियोगिता में चीफ आर्बिटर के दायित्व का निर्वहन किया।