अवैध प्लाटिंग के खिलाफ कार्यवाही करने सक्त हुए आयुक्त

अवैध प्लाटिंग के खिलाफ कार्यवाही करने सक्त हुए आयुक्त
RO No.12784/129

RO No.12784/129

RO No.12784/129

- राजस्व विभाग से जानकारी लेकर त्वरित कार्यवाही के दिए निर्देश
- नगर निगम सीमान्तर्गत अवैध प्लाटिंग की जांच हेतु राजस्व एवं निगम के अधिकारियों की संयुक्त टीम तैयार, जांच शुरू
दुर्ग। नगर पालिक निगम सीमा क्षेत्र अंतर्गत शनिवार को पुलगांव में अवैध प्लाटिंग की कार्यवाही के पश्चात नगर निगम आयुक्त लोकेश चन्द्राकर द्वारा पुनः अवैध प्लाटिंग पर कार्यवाही करने के निर्देश दिए है। अधिकारियों का संयुक्त जांच दल गठित के बाद इसके लिए राजस्व विभाग, टाऊन एण्ड कण्ट्री प्लानिंग विभाग एवं नगर निगम के अतिक्रमण विभाग के साथ सामंजस्य स्थापित कर अवैध प्लाटिंग क्षेत्र का सर्वे कर जल्द से जल्द कार्यवाही करने आयुक्त लोकेश चन्द्राकर के द्वारा भवन अधिकारी गिरीश दीवान को निर्देश दिया है।निर्देश के बाद तुरंत हरकत में आते हुए निगम के भवन अधिकारी गिरीश दीवान ने उरला का क्षेत्रीय पटवारी श्रीमति निवेदिता राजपुत के साथ निरिक्षण करने पहुँचे,और बारीकी से निरीक्षण किया ।

श्री दीवान द्वारा जानकारी में बताया कि शीघ्र ही संबंधितो को नोटिस देकर अवैध प्लाटिंग पर कार्यवाही की जावेगी।उन्होंने बताया कि अवैध प्लाटिंग करने वालो पर अंकुश लगाने निर्देशित किया गया है।आयुक्त लोकेश चन्द्राकर ने निगम के भवन अधिकारी गिरीश दीवान  को राजस्व विभाग से जानकारी लेकर त्वरित कार्यवाही करने की बात कही। आयुक्त लोकेश चन्द्राकर ने सचेत करते हुए कहा कि प्लाट खरीदने वाले कोई भी व्यक्ति जो प्लाट खरीदना चाहता है सर्वप्रथम नगर निगम के डाटा सेंटर के बिल्डिंग परमिशन शाखा के अधिकारियों से संपर्क करें,और अधिकारी को बताए कि जिस कॉलोनी में प्लाट खरीद रहे हैं वे वैध है कि अवैध संतुष्ट होने के बाद ही प्लाट खरीदे।भूखंड दलाल के बहकावे में आकर प्लाट नही खरीद, अवैध प्लांट खरीदने पर नगर निगम से बिल्डिंग परमिशन नही मिलेगा,किसी भी बैंकों से लोन भी नही मिलेगा, अवैध प्लाट लेने वाले व्यक्ति को मकान बनाने में बहुत दिक्कत होगी। उन्होंने कहा कि प्लाट खरीदने के पहले अवैध प्लाट की जानकारी के लिए सहायक भवन निरीक्षक विनोद मांझी से संपर्क कर सकते है।