महिला टीम को खिताबी मुकाबलों में जीत इस प्रकार मिलेगी : रमन

मुम्बई। भारतीय महिला क्रिकेट टीम कई बड़े खिताबी मुकाबलों में जीत के करीब पहुंच कर हार गयी है। वहीं अब महिला क्रिकेट टीम के कोच डब्ल्यू. वी रमन ने इसका कारण बताते हुए कहा है कि टीम बड़े टूर्नामेंट के फाइनल में तनाव में आ जाती है जिससे उसे उबरना होगा। कोच ने कहा कि फाइनल में टीम को बिना किसी डर के खेलना होगा। उन्हें बाहर होने वाली बातों से ध्यान हटाना होगा। ये चीजें अनुभव के साथ बेहतर होती चली जाती हैं। रमन ने साथ ही कहा कि टीम में खिलाड़ी की उम्र कोई मायने नहीं रखती बल्कि खिलाड़ी किस तरह बेहतर प्रदर्शन करे, यह ज्यादा अहम होता है। वहीं अनुभवी बल्लेबाज मिताली राज ने कहा, ‘टीम इंडिया में किसी प्रकार की कमी नहीं है। टीम के पास सबसे अच्छी खिलाड़ी हैं, जो काफी मेहनत भी करते हैं। मिताली ने कहा कि टीम के खिलाड़ी फील्डिंग और फिटनेस पर काफी मेहनत करते हैं।’ मिताली ने कहा, ‘हम बड़े टूर्नामेंट के दौरान लीग मैचों में अच्छा करते हैं पर फाइनल में जाकर हार जाते हैं क्योंकि वो करो या मरो वाली स्थिति होती है और मानसिक तौर पर शायद हम कमजोर हो जाते हैं। हमें सिर्फ इसी कमजोरी को ठीक करने पर काम करना होगा। मिताली ने कहा कि पिछले चार से पांच सालों में टीम ने काफी बेहतरीन खेल दिखाया है और टीम लगातार बेहतर हुई है। मिताली राज ने साथ ही कहा कि महिला क्रिकेट से बेहतरीन सपोर्ट स्टाफ भी जुड़ा है, जिसमें कई कोच और ट्रेनर भी शामिल हैं। इन चीजों से भारतीय महिला टीम को काफी मदद मिलती है। वहीं पूर्व क्रिकेटर सबा करीम ने कहा कि आजकल जो भी नयी खिलाड़ी आ रही हैं वह सभी अच्छा खेल रही हैं, यही कारण है कि टीम का प्रदर्शन निखर रहा है।

error: Content is protected !!