कोरोना प्रकोप- अमेरिका के बाद ब्राजील का गुस्सा डब्ल्यूएचओ पर उतरा, दी संबंध तोड़ने की धमकी

ब्राजीलिया । कोविड19 को लेकर चीन की भूमिका पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की चुप्पी पर अब अमेरिका के बाद सबसे अधिक प्राभावित देश ब्राजील का गुस्सा सातवें आसमान पर है। यहां कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 37 हजार के पार हो गई और इससे संक्रमितों की संख्या 685,400 हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस के प्रकाशन के लिए नई वेबसाइट लांच की गई है लेकिन रविवार को 24 घंटे की अवधि के लिए कोई डेटा जारी नहीं किया गया था। समग्र गणना से पता चलता है कि देश में कोरोना संक्रमितों की 685,427 मामलों की पुष्टि हुई है और मृतकों की संख्या 37,312 पहुंच गई हैं। वहीं देश में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए अमेरिका के बाद अब दूसरे देशों का भी गुस्सा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के खिलाफ बढ़ता ही जा रहा है। अमेरिका के बाद अब ब्राजील ने डब्ल्यूएचओ से संबंध तोड़ने की धमकी दी है। ब्राजील ने डब्ल्यूएचओ पर पक्षपात का आरोप लगाया। ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोल्सोनारो ने आरोप लगाया कि डब्ल्यूएचओ ने निष्पक्ष होकर देशों का साथ नहीं दिया। डब्ल्यूएचओ ने कोरोना को लेकर अन्य देशों से झूठ बोला है। बता दें कि ब्राजील से पहले डोनाल्ड ट्रंप ने भी मई के अंत में कहा था कि अमेरिका डब्ल्यूएचओ से सारे संबंध तोड़ रहा है। ट्रंप ने आरोप लगाया था कि डब्ल्यूएचओ ने चीन पर ज्यादा भरोसा जताया और अन्य देशों से झूठ बोला। ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ की फंडिंग बंद करने का भी ऐलान किया था। अमेरिका डब्ल्यूएचओ को सबसे ज्यादा रुपए दे रहा था। वहीं ब्राजील ने 2019 में ही पैसा देना बंद कर दिया था।

error: Content is protected !!