उत्तर कोरिया ने खत्म किया दक्षिण कोरिया से सैन्य और राजनैतिक रिश्ता

सियोल। उत्तर कोरिया ने सीमा पर उसके खिलाफ पर्चे भेजने से के बाद प्रतिद्वंद्वी दक्षिण कोरिया से सैन्य और राजनीतिक संपर्कों को खत्म करने का निर्णय लिया है। कोरियाई केंद्रीय समाचार एजेंसी के मुताबिक, उत्तर कोरिया ने सीमा पर उसके खिलाफ पर्चे भेजने से लोगों को नहीं रोक पाने के लिए अपने प्रतिद्वंद्वी दक्षिण कोरिया की निंदा की। इसके बाद उत्तर कोरिया ने कड़ा कदम उठाते हुए पड़ोसी देश के साथ सैन्य और राजनीतिक संपर्कों को बंद करने का फैसला किया।
रिपोर्ट में कहा गया है कि मंगलवार को पहले कदम के रूप में, उत्तर कोरिया एक अंतर‑कोरियाई संपर्क कार्यालय में संचार की लाइन और राष्ट्रपति कार्यालयों के बीच हॉटलाइन को खत्म कर देगा। केसीएनए ने कहा कि उत्तर कोरिया के लोग दक्षिण कोरिया के अधिकारियों के विश्वासघाती और चालाक व्यवहार से नाराज हैं, जिसके चलते यह फैसला लिया गया।
रिपोर्ट में आरोप लगाया गया कि दक्षिण कोरिया के अधिकारियों ने गैर‑जिम्मेदाराना रूप से उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेतृत्व की गरिमा को चोट पहुंचाई है। यह हमारे सभी लोगों के लिए संकेत था कि हम इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि दक्षिण कोरियाई अधिकारियों के साथ आमने-सामने बैठने की ज़रूरत नहीं है। इसके साथ ही अब दक्षिण कोरिया के साथ चर्चा करने के लिए कोई समस्या नहीं है, क्योंकि उन्होंने केवल हमारी निराशा को जगाया है।
बता दें कि इससे पहले किम जोंग उन की बहन ने चेतावनी दी थी कि अगर दक्षिण कोरिया ने उत्‍तर कोरियाई विद्रोहियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की तो उनका देश संबंध तोड़ लेगा। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उत्‍तर कोरिया के साथ लगी दक्षिण कोरिया की सीमा से उत्‍तर कोरियाई विद्रोहियों द्वारा कई बार गुब्बारे उड़ाए जाते हैं। इन गुब्बारों पर तानाशाह किम जोंग उन के परमाणु कार्यक्रमों का विरोध होता है और भला-बुरा कहा जाता है। कई बार उनमें गाली भी लिखी होती है।

error: Content is protected !!