COVID-19 से लड़ने में फेल हुई बघेल सरकार, ‘चाउर वाले बाबा’ ने लगाया आरोप

रायपुर | मजदूर से मजबूर बने श्रमिकों (Migrant Workers) की बेबसी देख हर कोई कोरोना वायरस (COVID-19) से अलग अब सिस्टम को कोसने लगा है. सड़कों पर दम तोड़ते मजदूरों को देख आम लोग जहां वक्त को कोस रहे हैं, वहीं राजनीतिक दल इस मौके पर भी बयानबाजी से पीछे नहीं हट रहे. कोरोना काल (Coronavirus) में राजनीतिक दल एक दूसरे को जिम्मेदार बताने से पीछे नहीं हट रहे हैं. चाहे केंद्र में बैठी बीजेपी के स्थानीय नेता हों या राज्य में सत्ताधारी दल के सदस्यों द्वारा केंद्र पर जिम्मेदारियों का ठीकरा फोड़ना हो. दोनों ही तरफ से बयानबाजियां चरम पर है. इसी क्रम में सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह (Dr. Raman Singh) ने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए मौजूदा राज्य सरकार को पूरी तरह से विफल बताया है.

डॉ. रमन सिंह ने लगाया आरोप

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की वीडियो कॉन्फेसिंग में राज्य सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश सरकार को मजदूरों की पीड़ा समझ नहीं आ रही. सरकार प्रवासी मजदूरों को लेकर उदासीन है. यही वजह है कि प्रवासी मजदूरों के लिए केंद्र सरकार प्रतिदिन 300 ट्रेन चलाना चाह रही है. मगर छत्तीसगढ़ की सरकार अपने यहां ट्रेन चलाने को लेकर कोई रोडमैप भी नहीं दे रही है. देश के अन्य राज्यों में सैकड़ों की संख्या में ट्रेनें पहुंच रही है. मगर छत्तीसगढ़ में यह आंकड़ा अब तक दहाई तक नहीं पहुंचा है.

पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह ने लगाए ये आरोप

देशभर से श्रमिकों के फोन मुझे आ रहे हैं. मगर राज्य सरकार अब तक अपना रोडमैप ही तय नहीं की है.
छत्तीसगढ़ की जनता ने कांग्रेस को सरकार चलाने के लिए चुना है. मगर कांग्रेस इसमें पूरी तरह से फेल ही साबित हुई है.
सोशल डिस्टेंसिंग की दुहाई देने और राग अलापने वाली राज्य सरकार के सरकारी शराब दुकानों पर ही सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ रही है और सरकार आमलोगों पर डंडे चलवा रही है.
कोरोना के इस भीषण आपदा में सरकार पूरी तरह से फेल साबित हुई है, सरकार किसी के भी उम्मीदों पर अब तक खरी नहीं उतर सकी है.
राज्य की सीमाओं पर सरकार ने अब तक कोई इंतजाम नहीं किया है, चिचोला बार्डर से लेकर तेलांगाना, आंध्रप्रदेश, ओडिशा, झारखंड, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश राज्य के बार्डरों पर लोगों की भीड़ है उन्हें सुविधा के नाम पर केवल छला जा रहा है.
इस कोरोना काल में भी केवल चिट्ठी लिखने से आर्थिक पैकेज नहीं मिलता है. प्रदेश सरकार विपक्ष से ना कोई सहयोग ले रही है ना ही सलाह. प्रवासी मजदूरों के सहयोग के लिए भाजपा भोजन, राशन, मास्क आदि की व्यवस्था कर रही है. अगर सरकार चाहेगी तो हम पूरा सहयोग करेंगे.

खिसयानी बिल्ली खंभा नोचे- आरपी सिंह

पूर्व सीएम द्वारा राज्य सरकार पर लगाए गए आरोपों पर कांग्रेस ने पलटवार किया है. कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह ने कहा कि बीजेपी की स्थिति खिसयानी बिल्ली खंभा नोचे की तरह है. केंद्र सरकार की कुनीतियों के कारण आज सड़कों पर मजदूर, मजबूर बन गए हैं. आज मजदूरों की सड़कों पर मौत तक हो रही है और केंद्र सरकार मदद के नाम पर जुमला एनाउंस करते हैं, जबकि राज्य सरकार ना केवल अपने बल्कि अन्य राज्यों से आने वाले मजदूरों के लिए भी बेहतर इंतजाम कर रही है.

error: Content is protected !!