5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी समाप्त, सरकार को 1 लाख 50 हजार 173 करोड़ रुपये मिले

5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी समाप्त, सरकार को 1 लाख 50 हजार 173 करोड़ रुपये मिले

Ro No. 12111/89

Ro No. 12111/89

Ro No. 12111/89

नयी दिल्ली  । सरकार ने सोमवार को समाप्त हुई 5जी स्पेक्ट्रम नीलामी से 1लाख 50 हजार 173 करोड़ रुपये की कमाई की।
केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने एक ट्वीट में कहा, दूरसंचार उद्योग ने प्रधानमंत्री के दूरसंचार सुधारों का जवाब दिया : 5जी स्पेक्ट्रम नीलामी 1,50,173 करोड़ पहुंची, 
जीयो ने नीलामी में 700मेगाहर्टज,800मेगाहर्टज , 1800मेगाहर्टज , 3300मेगाहर्टज और 26 जीएचजेड बैंड में स्पेक्ट्रम हासिल किया, जबकि एयरटेल ने 43,084 करोड़ रुपये में नीलामी के माध्यम से 900मेगाहर्टज, 1800 मेगाहर्टज, 2100 मेगाहर्टज , 3300 मेगाहर्टज और 26 जीएचजेड फ्ऱीक्वेंसी बैंड में 19867.8 मेगाहर्टज् स्पेक्ट्रम हासिल किया।
रिलायंस जियो इंफोकॉम के चेयरमैन आकाश एम अंबानी ने कहा, हमारा हमेशा से मानना रहा है कि भारत सफल प्रौद्योगिकियों की शक्ति को अपनाकर दुनिया की एक प्रमुख आर्थिक शक्ति बन जाएगा। यही वह दूरदृष्टि और दृढ़ विश्वास था जिसने जियो को जन्म दिया। जीयो के 4जी शुरु करने की गति, पैमाना और सामाजिक प्रभाव दुनिया में कहीं भी बेजोड़ है। अब एक बड़ी महत्वाकांक्षा और मजबूत संकल्प के साथ, जीयो भारत में 5 जी के युग की शुरूआत का नेतृत्व करने के लिए तैयार है।
उन्होंने कहा, हम 'आजादी का अमृत महोत्सवÓ पूरे भारत में 5जी की शुरूआत के साथ मनाएंगे। जीयो विश्वस्तरीय, किफायती 5 जी और 5 जी -सक्षम सेवाएं देने के लिए प्रतिबद्ध है। हम ऐसी सेवाएं, प्लेटफॉर्म और समाधान प्रदान करेंगे जो भारत की डिजिटल क्रांति को गति देंगे, विशेष रूप से शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा, कृषि, विनिर्माण और ई-गवर्नेंस जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों में और प्रधान मंत्री के डिजिटल इंडिया मिशन में एक और गौरवपूर्ण योगदान देंगे।
भारती एयरटेल के प्रबंध निदेशक और मुख्यकार्यकारी अधिकारी गोपाल विट्टल ने कहा, एयरटेल 5जी नीलामी के परिणामों से खुश है। नवीनतम नीलामी में यह स्पेक्ट्रम अधिग्रहण हमारी प्रतिस्पर्धा की तुलना में काफी कम सापेक्ष लागत पर सर्वश्रेष्ठ स्पेक्ट्रम सम्पत्ति खरीदने की सोची-समझी रणनीति का हिस्सा है। यह हमें नवाचार पर मानक बढ़ाने और प्रत्येक समझदार ग्राहक की उभरती जरूरतों को पूरा करने की अनुमति देगा जो सर्वोत्तम मांग करता है।