अब दिल की बीमारी का इलाज होगा आसान

अब दिल की बीमारी से पीड़ित लोगों का इलाज आसान होगा क्योंकि धमनियों को ठीक करने वाला प्रोटीन बन गया है।

दिल की बीमारी अब भी दुनिया की जानलेवा बीमारियों में सबसे आगे है। संतुलित खानपान और व्यायाम दिल की बीमारियों को दूर रखने में मदद तो करते हैं, मगर कुछ मामलों में विशेषज्ञ अब भी दिल की बीमारी के कारगर इलाज की तलाश में लगे हुए हैं। एक नये अध्ययन के अनुसार दिल तक खून पहुंचाने वाली धमनियों को एक प्रोटीन की सहायता से फिर से जवान बनाया जा सकता है।

अपने प्रयोग के दौरान विशेषज्ञों ने 60 से 79 साल की उम्र के 10 वॉलंटियर को प्राकृतिक एंटीऑक्सिडेंट कोएंजाइम क्यू10 का रिफाइंड वर्जन मिटो क्यू दिया। वहीं अन्य 10 को प्लेसिबो दिया गया। 6 हफ्तों के बाद शोधकर्ताओं ने इस प्रयोग में शामिल वॉलंटियर की धमनियों की सेहत और आकार का आकलन किया। इसके बाद उन्होंने दोनों समूहों को दिए जाने वाले सप्लिमेंट की अदला-बदली कर दी।

इस प्रकार धमनियों की उम्र में 15 से 20 साल का फर्क आया: विशेषज्ञों ने देखा कि मिटो क्यू सप्लिमेंट लेने वाले वॉलंटियर की धमनियों की उम्र में 15 से 20 साल तक का अंतर देखने को मिला। एक प्रमुख शोधकर्ता ने कहा कि अगर धमनियों की स्थिति में इस स्तर का सुधार होता है, तो इससे हृदय रोगों की आशंका को 13 फीसदी तक कम किया जा सकता है।

आजकल कोरोना महामारी को देखते हुए दिल की बीमारियों से पीड़ित लोगों को विशेष सावधानी बरतनी चाहिये क्योंकि वायरस से पीड़ित होने की स्थिति में इनकी जान खतरे में पड़ सकती है। कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों को सांस लेने में परेशानी होने लगती है और ऐसे में दिल के दौरे का खतरा बढ़ जाता है। दिल के मरीजों के लिए घूमना जरुरी है पर लॉकडाउन के कारण घर से नहीं निकल सकते हैं, ऐसे में ये लोग या तो घर में घूमें या अगर घर में बगीचा है तो वहां घूम सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!