मरकज से निकले 1200 जमातियों का सुराग नहीं

नई दिल्ली। निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी मरकज मामले में एक और सनसनीखेज खुलासा हुआ है। दिल्ली पुलिस समेत देश की अन्य सुरक्षा एजेंसियों की कड़ी मशक्कत के बावजूद मरकज में आए 1200 जमातियों का अभी तक पता नहीं चल सका है। ये भारतीय हैं या विदेशों के रहने वाले हैं, इनकी जांच की जा रही है। फरार जमातियों का रिकार्ड खंगालने के लिए अपराध शाखा की टीम ने शामली (उत्तर प्रदेश) जिले के कांधला स्थित मौलाना मोहम्मद साद के फार्म हाउस में छापेमारी भी की। अपराध शाखा के एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि मरकज में हुए जलसे में शामिल होने के लिए 11 से 13 मार्च तक करीब 4000 जमाती आए थे। तीन दिनों में मरकज में आए चार हजार जमाती की मरकज के रजिस्टर में एंट्री है। इनमें से 1800 जमाती तो दिल्ली समेत अन्य राज्यों में मिल गए हैं, लेकिन 1200 जमातियों का अभी तक पता नहीं चल सका है।

इन जमातियों का रिकार्ड खंगालने के लिए एक टीम मौलाना साद के फार्म हाउस में गई थी। इसके अलावा मौलाना साद व मरकज के नाम से यूपी में भी बैंक खाते हैं, जिनकी जानकारी भी खंगाली गई। पुलिस टीम ने मौलाना साद के फार्म हाउस से कुछ लैपटॉप, पैन ड्राइव व अन्य जरूरी कागजात बरामद किए हैं। लैपटॉप व पैन ड्राइव को फोरेंसिक जांच के लिए भेजा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!