राज्य में अब तक 4.19 लाख मीटरिक टन धान की खरीदी एक लाख 32 हजार 637 किसानों ने बेचा धान

-किसानों को अब तक 821 करोड़ 50 लाख से अधिक की राशि का भुगतान
-आज तीसरे दिन भी राजनांदगांव में सर्वाधिक 49,218 मीटरिक टन धान की हो चुकी खरीदी
-कस्टम मिलिंग हेतु धान का उठाव प्रारंभ: बिलासपुर, रायपुर, दुर्ग, राजनांदगांव, रायगढ़, जशपुर, सूरजपुर, महासमुंद और सरगुजा जिलों धान का उठाव
-खाद्य सचिव और मार्कफेड की प्रबंध संचालक ने धान उपार्जन केन्द्रों में धान खरीदी व्यवस्था का किया निरीक्षण
दक्षिणापथ,रायपुर। राज्य में खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 के लिए एक दिसम्बर से शुरू हुए धान खरीदी के बीते तीन दिनों में 04 लाख 19 हजार 135 मीटरिक टन धान की समर्थन मूल्य पर खरीदी की जा चुकी है। इन तीन दिनों में 1,32,637 किसानों ने उपार्जन केन्द्रों में समर्थन मूल्य पर अपना धान बेचा है। बैंक लिकिंग व्यवस्था के तहत अब तक इन किसानों को 821 करोड़ 50 लाख 46 हजार रूपए का भुगतान किया गया है।
धान खरीदी के तीसरे दिन भी राजनांदगांव जिला प्रदेश में अग्रणी है। बीते तीन दिनों में राजनांदगांव जिले में 49,218.16 मीटरिक टन धान की खरीदी हो चुकी है। वहीं बलौदाबाजार जिला धान खरीदी के मामले में आज तीसरे दिन राज्य में दूसरे क्रम पर है और बलौदाबाजार जिला में 34,488.44 मीटिरिक टन धान की खरीदी हुई है। बेमेतरा जिला धान खरीदी के मामले में आज राज्य में तीसरे नम्बर पर है। बेमेतरा जिला में 34,420 मीटरिक टन धान की खरीदी हुई है। समर्थन मूल्य पर धान बेचने को लेकर किसानों में उत्साह है। उपार्जन केन्द्रों में टोकन के आधार पर किसान धान बेचने के लिए पहुंच रहे है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देशानुसार खरीदी केन्द्रों में किसानों की सहूलियत और धान खरीदी की व्यवस्था का जायजा लेने के लिए वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी लगातार केन्द्रों का दौरा कर रहे हैं। धान खरीदी के तीसरे दिन आज खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के सचिव टोपेश्वर वर्मा और मार्कफेड की प्रबंध संचालक श्रीमती किरण कौशल सहित अनेक वरिष्ठ अधिकारियों ने विभिन्न जिलों के धान उपार्जन केन्द्रों में धान खरीदी व्यवस्था का निरीक्षण किया।
खाद्य विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार चालू विपणन वर्ष में राज्य के महासमुंद जिले में अब तक 31,094 मीटरिक टन, बस्तर जिले में 2,543 मीटरिक टन, बीजापुर जिले में 501 मीटरिक टन, दंतेवाड़ा जिले में 76.72 मीटरिक टन, कांकेर जिले में 10 हजार 424 मीटरिक टन, कोण्डागांव जिले में 7 हजार 651 मीटरिक टन, नारायणपुर जिले में 647 मीटरिक टन, सुकमा जिले में 305 मीटरिक टन, बिलासपुर जिले में 19575 मीटरिक टन, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही 2489 मीटरिक टन, जांजगीर-चांपा जिले में 9768 मीटरिक टन, कोरबा जिले में 1605 मीटरिक टन, मुंगेली जिले में 12847 मीटरिक टन, रायगढ़ जिले में 16082 मीटरिक टन, बालोद जिले में 33,071 मीटरिक टन, बेमेतरा जिले में 34,420 मीटरिक टन, दुर्ग जिले में 24,235 मीटरिक टन, कवर्धा में 25,459 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में 49,218 मीटरिक टन, बलौदाबाजार जिले में 34,488 मीटरिक टन, धमतरी जिले में 24,673 मीटरिक टन, गरियाबंद जिले में 18,926 मीटरिक टन, रायपुर जिले में 30,518 मीटरिक टन, बलरामपुर जिले में 4078 मीटरिक टन, जशपुर जिले में 3266 मीटरिक टन, कोरिया जिले में 3129 मीटरिक टन, सरगुजा जिले में 7367 मीटरिक टन और सूरजपुर जिले में 10,679 मीटरिक टन धान की खरीदी की गई है।
धान उपार्जन केन्द्र तुमडीबोड जिला राजनांदगांव के कृषक पुरूषोत्तम वर्मा जिन्होंने 18 एकड़ में धान की खेती की है, धान खरीदी व्यवस्था से संतुष्ट है। राज्य सरकार द्वारा बारदाने की दर 25 रूपए किए जाने से काफी प्रसन्नता व्यक्त करते हुए राज्य सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया है। रायपुर जिले के केन्द्री धान उपार्जन केन्द्र में छत्तीसगढ़ राज्य विपणन संघ की प्रबंध संचालक श्रीमती किरण कौशल ने औचक निरीक्षण किया। केन्द्र में उपस्थित किसान दीनूराम निषाद, कमलेश साहू एवं छन्नू साहू आदि ने बताया कि वे धान खरीदी व्यवस्था से संतुष्ट हैं। राज्य सरकार पुराने बारदाने की कीमत 25 रूपए बढ़ाने पर खुशी जाहिर की।

error: Content is protected !!