जियो और फेसबुक सौदे की 5 मुख्य बातें

मुंबई । एक ओर भारत स‎हित पूरी दुनिया में कोरोना का संक्रमण फैलने की वजह से लॉकडाउन की स्थिति हैं और लोग घरों में कैद हैं, वहीं लोगों ने इंटरनेट पर अधिक समय बिताना शुरू कर दिया है। इसी बीच भारत में सबसे तेजी से बढ़ रही दूरसंचार कंपनी जियो और दुनिया की सबसे बड़ी सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक के बीच एक बड़ी डील हुई है। फेसबुक ने जियो में 9.99 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के लिए 43,574 करोड़ रुपये के निवेश का ऐलान किया है। ‎इस सौदे की पांच मुख्य बातें इस प्रकार है- पहली इस बड़ी डील के बाद फेसबुक अब जियो प्लेटफॉर्म्स लिमिटेड का सबसे बड़ा शेयरहोल्डर बन गया है। फेसबुक के इस निवेश के बाद जियो प्लैटफॉर्म्स की एंटरप्राइज वैल्यू 4.62 लाख करोड़ हो गई है।

दूसरी अगर जियो और फेसबुक के बीच की इस डील को माइनॉरिटी इन्वेस्टमेंट के लिहाज से देखा जाए तो यह सबसे बड़ा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) है। इस बड़ी डील पर रिलायंस जियो ने कहा है कि कंपनी के एक छोटे हिस्से पर किसी टेक कंपनी का यह सबसे बड़ा निवेश है। तीसरी, दोनों कंपनियों की साझेदारी से ना सिर्फ दोनों कंपनियों का कारोबार बढ़ेगा, बल्कि रोजगार के भी कई अवसर पैदा होंगे। चौथी, रिलायंस जियो की शुरुआत 2016 में हुई थी। धीरे-धीरे इसने टेलिकॉम इंडस्ट्री में अपनी धाक जमा ली। टेलिकॉम और ब्रॉडबैंड से लेकर ई कॉमर्स में इसने अपना विस्तार किया और 38 करोड़ ग्राहकों तक पहुंच गई और पांचवी, भारत में तेजी से इंटरनेट के यूजर बढ़ रहे हैं। ऐसे में इस डील के साथ जियो और फेसबुक को बाकी कंपनियों से टक्कर लेने में आसानी होगी। इसी साल की शुरुआत में भारती एयरटेल और गूगल क्लाउड के बीच भी ‎हिस्सेदारी हुई थी, जो छोटे और मझोले कारोबारियों को जी-सूट मुहैया कराने के लिए थी। अब जियो और फेसबुक की इस डील से एयरटेल-गूगल की पार्टनरशिप को टक्कर देने में मदद मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!