भारतीय रेलवे के 167 साल के सफर में पहली बार सभी ट्रेनें एक साथ इतने वक्त के लिए हुई बंद

नई दिल्ली। कोरोना वायरस संकट के चलते पूरे देश की यात्री ट्रेन सेवाओं को स्थगित कर दिया है। ऐसे में भारतीय रेलवे ने आज 167 साल का सफर पूरा कर लिया है। 16 अप्रैल, 1853 में यानी आज ही के दिन देश में पहली पैसेंजर ट्रेन चली थी। हालांकि, वर्तमान में ऐसे में 40 दिन तक ट्रेन सेवा स्थगित रहेगी। रेलवे के इतिहास में यह पहली बार है जब एक साथ सभी ट्रनों के परिचालन पर इतने लंबे समय के लिए ब्रेक लग गया हो। भारतीय रेलवे के 167 साल के इतिहास ने कई बड़ी घटनाओं का सामना किया है लेकिन इसके पहियों पर इससे पहले कभी ब्रेक नहीं लगा। भारत रेलवे की शुरुआत के बाद दो विश्व युद्ध हुए और उस दौरान भी ट्रेनें चलती रही थीं। उसके बाद देश का बंटवारा हुआ और फिर महामारी भी फैली, लेकिन ट्रेन के संचालन पर कभी ब्रेक नहीं लगा। यह पहली बार है जब यात्री ट्रेनों को पूर्ण से रद्द कर दिया गया है।

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लगाये गये राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन से पहले 22 मार्च से 3 मई तक यात्रियों द्वारा बुक कराई गई 94 लाख टिकटों के रद्द होने पर भारतीय रेलवे को राजस्व में 1,490 करोड़ रुपये का नुकसान होगा। भारतीय रेलवे ने कहा है कि लॉकडाउन की बढ़ी हुई अवधि के दौरान यात्रा के लिए बुक कराए गए टिकटों के पूरे पैसे वापस किए जाएंगे। भारत में अंग्रेजों द्वारा शुरू की गई रेल सेवा के तहत पहली ट्रेन 16 अप्रैल 1853 को मुंबई के बोरी बंदर स्टेशन (छत्रपति शिवाजी टर्मिनल) से ठाणे के बीच चलाई गई थी। इसमें करीब 400 लोगों ने सफर किया था। पहली रेल यात्रा की दूरी करीब 34 किमी थी। भारत में रोजाना 20 हजार से ज्यादा पैसेंजर ट्रेनें चलती हैं। इसमें लंबी दूरी की 3500 से ज्यादा ट्रेनें शामिल हैं। भारतीय रेलवे का नेटवर्क एशिया का दूसरा और दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। इसमें रोज करीब 2.5 करोड़ लोग यात्रा करते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!