लॉकडाउन में रद्द टिकटों पर आईआरसीटीसी ने नहीं दिया पूरा रिफंड, लोगों ने जताई नाराजगी

मुंबई। कोरोना संकट के चलते लॉकडाउन में रेलवे सेवा बंद पड़ी है। रेलवे के वादे के बावजूद लॉकडाउन की अवधि के टिकटों की बुकिंग रद्द होने के बाद जारी रिफंड में से कन्वीन्यन्स शुल्क के नाम पर मोटी रकम कटने से यात्रियों ने नाराजगी जताई है। रेलवे के सूत्रों के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉकडाउन की अवधि को 14 अप्रैल से और 17 दिन बढ़ाने के कारण 15 अप्रैल तथा 3 मई की अवधि के बीच लगभग 39 लाख टिकटों को कैंसल करना पड़ा है। दरअसल, आईआरसीटीसी ने जिन टिकटों को कैंसल किया है, उनमें से नॉ-एसी क्लास के लिए 15 रुपये तथा एसी और फर्स्ट क्लास टिकटों पर कन्वीन्यन्स चार्ज के रूप में 30 रुपये की कटौती की गई है। इसके अलावा, हर कैंसल टिकट पर उसने पेमेंट गेटवे चार्ज भी वसूल किया है। बीते 14 अप्रैल को लॉकडाउन की अवधि बढ़ने के बाद रेलवे ने अपनी तमाम यात्री सेवाओं को तीन मई तक के लिए निलंबित कर दिया है और अगले आदेश तक एडवांस बुकिंग भी रोक दी है। हालांकि, लॉकडाउन के शुरुआती दिनों में वह 15 अप्रैल से एडवांस बुकिंग कर रही थी।

रत्नागिरी सुपरफास्ट एक्सप्रेस की 20 अप्रैल की दो एसी की टिकटें बुक करने वाले डोंबिवली निवासी महेश द्विवेदी कहते हैं, ‘जब रेलवे ने खुद टिकटें कैंसल की हैं, फिर वह प्रॉसेसिंग फी क्यों चार्ज कर रही है? उन्होंने कहा, ‘लॉकडाउन को आगे बढ़ाए जाने के बाद मुझे मेसेज मिला कि मेरी टिकटें कैंसल कर दी गई हैं और इसका रिफंड जल्द ही मेरे अकाउंट में मिल जाएगा। लेकिन जब रिफंड की रकम आई तो वह लगभग 50 रुपये कम थी। जब मैंने इस बारे में और लोगों से पूछा तो पता चला कि फुल रिफंड करने के वादे के बावजूद लोगों को आईआरसीटीसी की वेबसाइट से बुक किए गए टिकटों का पूरा रिफंड नहीं मिला है।’ नाम जाहिर न करने की शर्त पर आईआरसीटीसी के एक अधिकारी ने बताया, ‘जब कोई ट्रेन कैंसल होती है तो यात्रियों को पूरा रिफंड दिया जाता है और कन्वीन्यन्स फी के नाम पर बेहद मामूली रकम काटी जाती है। इस रकम का इस्तेमाल वेबसाइट के मेंटनेंस में होता है, जिस पर रोजाना 32 लाख रुपये और सालाना लगभग 125 करोड़ रुपये का खर्च आता है।

आईआरसीटीसी के एक प्रवक्ता ने इस शुल्क को न्यायोचित ठहराते हुए कहा, ‘आईआरसीटीसी लोगों को कहीं से भी टिकटें बुक करने की सुविधा प्रदान करता है। इसके लिए आईआरसीटीसी बेहद मामूली रकम चार्ज करती है, जो नॉन एसी टिकट के लिए 15 रुपये और एसी तथा फर्स्ट क्लास टिकट के लिए 30 रुपये है। एक सिंगल टिकट पर छह यात्री तक यात्रा कर सकते हैं और शुल्क का निर्धारण टिकट से होता है न कि पैसेंजर्स की संख्या से।’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!