लखीमपुर किसान हत्याकांड में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त करने की मांग

-छत्तीसगढ़ के मृतक किसानों के परिवारों को भी 50 लाख रूपयों की सहायता दो
-किसान शहीद दिवस पर किसान आंदोलन के दौरान और मंदसौर, लखीमपुर, करनाल आदि के शहीद किसानों को किया याद
दक्षिणापथ, दुर्ग।
केंद्र के तीन कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन का नेतृत्व करने वाले संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर आज पूरे देश में किसान संगठनों द्वारा किसान शहीद दिवस मनाया जा रहा है। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ प्रगतिशील किसान संगठन द्वारा पटेल चौक में किसान शहीद दिवस का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में शामिल किसानों को संबोधित करते हुए संगठन के राजकुमार गुप्त और झबेंद्र भूषण वैष्णव ने बताया कि एक साल के आंदोलन के दौरान अब तक लगभग 7 सौ किसान शहीद हो गये हैं, कुछ साल पहले मप्र के मंदसौर में सरकार ने गोली मारकर 6 किसानों की हत्या कर दिया था पिछले दिनों यूपी के लखीमपुर खीरी में शांतिपूर्वक प्रदर्शन करने वाले किसानों को गाड़ी से कुचल दिया गया जिसमें 4 किसान शहीद हो गये। हरियाणा के करनाल में प्रशासन ने लाठियों से पीटकर और बस्तर में 3 आदिवासी किसानों को पुलिस ने गोलियों से भूनकर मार डाला।

किसानों ने प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन दिया जिसमें लखीमपुर किसान हत्याकांड के लिये जिम्मेदार केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा को तत्काल पद से बर्खास्त करने की मांग की गई है। किसान संगठन का कहना है कि 25 सितंबर को उन्होंने भड़काऊ भाषण दिया था जिससे किसान आक्रोशित थे और उन्हे काले झंडे दिखाकर शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन कर रहे थे जिन्हें निर्ममता पूर्वक गाडिय़ों से कुचल दिया गया जिसमें 4 किसान शहीद हो गये। जिस गाड़ी से किसानों को कुचला गया वह मंत्री की थी गृहमंत्री रहते वह जांच को प्रभावित, सबूतों को नष्ट और गवाहों को डरा धमका सकते हैं अत: उन्हें तत्काल पद से बर्खास्त किया जाना चाहिये। किसान संगठन की ओर मे प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम भी ग्यापन दिया गया जिसमें उनके द्वारा यूपी के लखीमपुर में मृतक किसानों के परिवारों को 50 लाख की आर्थिक सहायता देने के तर्ज पर छत्तीसगढ़ में आत्महत्या, हत्या या दुर्घटना किसी भी कारण से जान गंवाने वाले किसानों के परिवारों को भी 50 लाख रूपयों की आर्थिक सहायता आपदा कोष की राशि के अतिरिक्त देने की मांग की गई है। प्रदर्शन के दौरान किसान संगठन ने कृषि उपजों के लिये न्यूनतम गारंटी मूल्य कानून लागू करने की मांग भी किया है, प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के नाम ग्यापन प्रशासन के प्रतिनिधि के रूप में नायब तहसीलदार दुर्गा साहू को सौंपा गया। आज के किसान शहीद दिवस में परमानंद यादव, बाबूलाल साहू, कल्याण सिंह ठाकुर, ढालेश साहू, ग्यानेश्वर यादव, राजेंद्र साहू, रामनारायण, मणिराम, शंकरराव, गीतेश्वर, अतीशकुमार, ओंकार, भूपेंद्र चौबे, दीपक यादव, प्रेमलाल निषाद, गुलाब चंद्राकर, लता चंद्राकर, खेमिन देवांगन, एकेश्वरी निर्मलकर, चंपेश्वरी धीवर, दुलारी श्रीवास्तव आदि शामिल थे।

error: Content is protected !!