दुर्ग के 10 केंद्रों में कोविशील्ड और 3 केंद्र महावीर कोविद सेंटर,धमधा नाका और पोटिया कला में को-वैक्सीन रहेगी उपलब्ध...

दुर्ग के 10 केंद्रों में कोविशील्ड और 3 केंद्र महावीर कोविद सेंटर,धमधा नाका और पोटिया कला में को-वैक्सीन  रहेगी उपलब्ध...

Ro No. 12111/89

Ro No. 12111/89

Ro No. 12111/89

दक्षिणापथ, दुर्ग।  दुर्ग ब्लाक के खुरसुल के किसानों ने रबी फसल में चने की बोवाई किया है और बीमा का प्रीमियम भी जमा किया है, मौसम की प्रतिकूलता के कारण खुरसुल में चने की फसल खराब हो गई है, बीमा के नियमों के अनुसार राजस्व और कृषि विभाग द्वारा पूर्व निर्धारित खसरे में फसल कटाई प्रयोग के माध्यम से वास्तविक उपज का आंकलन किया जाता है और औसत वास्तविक उपज के आधार पर निर्धारित उपज से जितनी कमी होती है उसके दावा राशि का भुगतान बीमा कंपनी द्वारा उस गांव के सभी बीमित किसानों को किया जाता है, ग्राम खुरसुल में कृृषि विभाग द्वारा फसल कटाई प्रयोग किया जा चुका है किंतु राजस्व विभाग द्वारा आज तक फसल कटाई प्रयोग नहीं किया गया है। जिसके कारण गांव में चने की औसत वास्तविक उपज का आंकलन नहीं किया जा सका है, राजस्व विभाग की लापरवाही का खामियाजा चने की फसल लेने वाले प्रभावित किसानों को भुगतना पड़ रहा है और फसल खराब होने के बावजूद बीमा दावा राशि से वंचित रह जाने का खतरा उत्पन्न हो गया है, ग्राम खुरसुल के चना उत्पादक प्रभावित किसानों ने छत्तीसगढ़ प्रगतिशील किसान संगठन के एड. राजकुमार गुप्त और झबेंद्र भूषण वैष्णव के मार्गदर्शन में कलेक्टर जनदर्शन में आवेदन लगाकर शीघ्र फसल कटाई प्रयोग कराने का निवेदन किया है, किसानों के आवेदन को संग्यान में लेते हुए कलेक्टर ने तत्काल एसडीएम को फसल कटाई प्रयोग करने के लिये निर्देशित किया है, प्रभावित किसानों ने अपर कलेक्टर पद्मा भोई साहू को भी अपनी समस्या से अवगत कराया है, जनदर्शन में आवेदन देने वालों में सुभाष देशमुख, मोरजदास, पंचलाल पटेल, महेंद्र देशमुख, दुग्धे साहू, लोकेश यादव, छगन यादव और मीनू साहू शामिल हैं।