79 फीसदी भारतीय लॉकडाउन बढ़ाने के पक्ष में

79 फीसदी भारतीय लॉकडाउन बढ़ाने के पक्ष में

Ro No. 12111/89

Ro No. 12111/89

Ro No. 12111/89

-नागर पूजा कर गृहमंत्री ने शौर्य संगठन संग मनाई हरेली

तीज-त्योहारों पर छोटे बड़े आयोजनों से बढ़ती है ग्रामीण एकता- गृहमंत्री
दक्षिणापथ, उतई (अशोक अग्रवाल)।
छत्तीसगढ़ी परंपरा एवं किसानों का सबसे पहला त्यौहार हरेली के अवसर पर दुर्ग ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र के आदर्श ग्राम कोडिया में हरेली महोत्सव कार्यक्रम बहुत ही उत्साहपूर्वक मनाया गया। ग्राम कोडिया के शौर्य युवा संगठन एवं ग्राम पंचायत के संयुक्त तत्वाधान में हरेली त्योहार के अवसर पर विभिन्न प्रकार के खेल एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। हरेली महोत्सव कार्यक्रम में प्रदेश के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए। साथ ही जनपद पंचायत अध्यक्ष देवेंद्र देशमुख, क्षेत्र के जनपद सदस्य व जनपद ट्रॉफी कार्यक्रम के आयोजक राकेश हिरवानी, कृषक कल्याण परिषद छग शासन के सदस्य जेपी दीपक, युवा समाज सेवी हर्ष साहू, भूषण साहू, ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष भरत चंद्राकर, सरपंच चंद्रभान सारथी, पूर्व सरपंच राधेलाल साहू, उपसरपंच चंद्रकुमार चंद्राकर, चुन्नीलाल चंद्राकर, दिनेश दीपक, गोवर्धन दीपक, नीलम निषाद सहित अन्य गणमान्य विशेष रूप से उपस्थित थे।

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहु एवं सभी अतिथियों ने हरेली पर्व विशेष कृषि औजार एवं उपकरणों का पूजा अर्चना कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। साथ ही मंत्री ने सीटी बजाकर फुगड़ी प्रतियोगिता के माध्यम से खेल कार्यक्रम की शुरुआत की। शौर्य युवा संगठन के अध्यक्ष फलेंद्र पटेल ने बताया इस वर्ष संगठन द्वारा हरेली महोत्सव का छटवां आयोजन था। जिसमें सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ विभिन्न परम्परागत खेलों फुगड़ी, रस्साकस्सी, गेड़ी, बैला सजाओ, चीला सजाओ, फुग्गा फोड़ो, सुरीली कुर्सी, नारियल फेंक, मटकी फोड़ का भी आयोजन किया गया था। साथ ही नई पीढ़ी को लुभाने छत्तीसगढ़ी थीम पर सेल्फ़ी जोन एवं सावन झूला की व्यवस्था भी की गई थी। अध्यक्ष पटेल ने बताया कि कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य मनोरंजन के साथ प्रदेश की संस्कृति एवं पूर्वजों की परंपरा को नई पीढ़ियों तक हस्तांतरित करने का प्रयास किया जाता है जिससे लुप्त होती संस्कृति फिर से जीवित हो उठे।
विभिन्न प्रतियोगिताओं में आकर्षक पुरस्कार की प्रदान किया गया जिसमें प्रथम द्वितीय व तृतीय पुरस्कार क्रमशः फुगड़ी फामेश्वरी, यामिनी, खिलेश्वरी, सुरीली कुर्सी नीलेश, मुकेश, रोशनी साहू, सुरीली कुर्सी महिला लीलेश्वरी, कुसुम निषाद, सुशीला निषाद, फुग्गा फोड़ो महिला जामबाई, फुग्गा फोड़ो पुरुष रवि साहू, रस्साकसी महिला रीना टीम, अनिता टीम, रस्साकसी पुरुष हीरासिंह टीम, खेमराज टीम चीला बनाओ में संध्या भारद्वाज ने उत्कृष्ट प्रर्दशन कर पुरस्कार प्राप्त किया।
गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू जी ने ग्रामीणों को हरेली पर्व की बधाई देते हुए कहा प्रत्येक त्योहारों पर छोटे बड़े कार्यक्रम होते रहने चाहिए जिससे संस्कृति के हस्तांतरण के साथ ग्रामीण एकता एवं सौहार्द्रता में वृद्धि होती है। गृहमंत्री साहू जी ने हरेली विशेष आयोजन के लिए शौर्य संगठन की तारीफ़ करते हुए कहा हमारी सरकार छग की परंपरा को संजोए रखने का प्रयास कर रही है। प्रदेश सरकार ने नौकरीपेशा महिलाओं को तीज पर्व में अवकाश दिया है इसके लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखकर धन्यवाद करना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने महिलाओं को स्वरोजगार के लिए प्रेरित किया और हरसम्भव मदद का आश्वासन भी दिया।

जनपद सदस्य राकेश हिरवानी ने भी हरेली की शुभकामनाएं देते हुए बताया कि इस उनके द्वारा क्षेत्र के सभी ग्राम के सरपंच एवं ग्रामीणों के सहयोग से जनपद स्तर पर इतवारी चीला तिहार कार्यक्रम किया गया है। जिसकी अगुवाई इस वर्ष शौर्य संगठन द्वारा किया जा रहा है। आज सभी ग्रामों में ग्राम स्तर पर आयोजन हो रहा है फिर सभी विजयी प्रतिभागी 15 अगस्त को जनपद स्तर पर ग्राम पाउवारा में प्रदर्शन करेंगे। भरत चंद्राकर ने मंत्री का धन्यवाद करते हुए कहा कि उनके द्वारा ग्राम में अनेक विकास कार्य हुए है। जब भी हमने मंत्री से सहयोग मांगा है उन्होंने खुले हाथों से हमारा सहयोग किया है। चंद्राकर ने मंत्री से ग्राम की मुख्य मांग हाई स्कूल के लिए नया भवन की स्वीकृति जल्द कराने का निवेदन किया साथ ही संगठन की ओर से ग्राम में पुस्तकालय एवं जिम के लिए भी भवन की मांग को पूरा करने अनुरोध किया। कार्यक्रम का संचालन शौर्य संगठन के सचिव एवं मीडिया प्रभारी आदित्य भारद्वाज ने किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में यादवेंद्र, खिलेंद्र, सुरेश, खेमराज, निखिल, लक्ष्मी, ममता, जामिन, आरती, सिद्धि, अंजू, लुकेश्वरी, चिरंजीव, तोपेन्द्र, ईशु, आनंद, जितेंद्र, रवि, टिकेंद्र, राजेश, नेमचंद सहित शौर्य युवा संगठन एवं ग्राम पंचायत के सदस्यों का विशेष योगदान रहा।