निगम एन्युवेलेम अंतर्गत सामुदायिक संगठनों ने डेंगू रोकथाम हेतु घर घर जाकर किया लोगो को जागरूक

निगम एन्युवेलेम अंतर्गत सामुदायिक संगठनों ने डेंगू रोकथाम हेतु घर घर जाकर किया लोगो को जागरूक
RO No. 12200/36

RO No. 12172/87

RO No. 12200/36

RO No. 12172/87

RO No. 12200/36

RO No. 12172/87

दुर्गग्रामीण । गजब विटामिन भरे हुए हे छत्तीसगढ़ के बासी मा, श्रमिक दिवस के दिन बासी खाकर करेंगे श्रम का सम्मान’: सीएम भूपेश बघेल के इस आवाहन के बाद छत्तीसगढ़ की जनता में गजब का उत्साह दिखने को मिल रहा है।  छत्तीसगढ़ के ग्रामीण अंचल में आज भी खेतों में बोरे बासी का अलग ही महत्व है। काम पर जाने से पहले लोग घर से बासी खाकर निकलते हैं। हालांकि शहरों में बासी का प्रचलन कम है, लेकिन गांवों में शायद ही ऐसा कोई घर होगा जहां लोग बासी नहीं खाते। बासी के महत्व के प्रति जागरूता से अवगत कराने के उद्देश्य किसान पुत्र और प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल ने 1 मई को श्रमिक दिवस के दिन बासी खाकर श्रम और श्रमिकों का सम्मान करने की अपील की है। इसी क्रम में ग्राम अंडा में जिला अध्यक्ष किसान कांग्रेस के नेतृत्व में श्रमिक दिवस पर मनरेगा मजदूरों का सम्मान किसान गमछा व साल भेंटकर लगभग 100 मनरेगा मजदूरों का सम्मान किया गया। उल्लेख हो कि लहलहाते खेतों की बात करें या खदानों से अयस्क ढूंढ लाने की बात करें। कारखानों में धधकते लोहे से मजबूत स्टील बनाते हाथ हों या वनांचल में महुआ ,तेंदू पत्ता जैसे वनोपज इक्कठा करने वाले हाथ हों। प्रदेश कांग्रेस कमेटी महामंत्री जितेंद्र साहू ने कहा कि देश और प्रदेश को हमारे किसान भाइयों और श्रमिक भाईयों ने ही अपने मजबूत कंधों में संभाल रखा है। एक मई को हर साल हम इन्हीं मेहनतकश लोगों के प्रति अपना आभार व्यक्त करने के लिए मजदूर दिवस मनाते हैं। हम सभी को मालूम है कि हर छत्तीसगढ़िया के आहार में बोरे- बासी का कितना अधिक महत्व है।जिला पंचायत अध्यक्ष शालनी यादव ने कहा कि छत्तीसगढ़ धान का कटोरा है और चावल के व्यंजन यहां की प्रमुख विशेषता हैं। गर्मी में प्रदेश के लोग बोरे और बासी खाते हैं ताकि शरीर में स्फूर्ति और ठंडक बनी रहे। आगे उन्होंने कहा कि अपनी विशिष्ट सांस्कृतिक पहचान को सहेजने से गहरी खुशी मिलती है। जिला किसान कांग्रेस अध्यक्ष पुकेश चन्द्राकर ने कहा कि हमारे श्रमिक भाईयों, किसान भाइयों और हर काम में कंधे से कंधा मिलाकर चलने वाली हमारी बहनों के पसीने की हर बूंद में बासी की महक है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के इस आव्हान पर पूरे प्रदेश में जहा 1 मई को श्रमिक दिवस पर बोरे बासी खा कर श्रमवीरों की सम्मान किया गया है। ग्राम पंचायत सरपँच उमादेवी ने इस बासी तिहार पर प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू को धन्यवाद ज्ञापित किया है इस तरह का आयोजन प्रतिवर्ष होना चाहिए जिससे हमारे श्रमिक मजदूरों का हमेशा सम्मान मिलेगा। वहीं गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू के विधानसभा के अंतर्गत गृह जिले की जिला पंचायत अध्यक्ष शालिनी यादव प्रदेश कांग्रेस कमेटी महामंत्री जितेंद्र साहू ,जनपद अध्यक्ष देवेंद्र देशमुख, कृषि सभापति योगिता चन्द्राकर ,जिला अध्यक्ष किसान कांग्रेस पुकेश चन्द्राकर, सरपँच उमादेवी चन्द्राकर मनरेगा श्रमवीरों से मुलाकात करने अंडा गांव पहुंचीं और श्रमिकों से कहा कि 1 मई को श्रम दिवस उनके साथ बोरे बासी खा कर मनाएंगी , जिस पर उपस्थित मनरेगा श्रमिकों ने खुशी जाहिर की।और बोरे बासी मनरेगा मजदूरों के साथ बैठकर बासी खाकर आनंद लिया।इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस महामंत्री जितेन्द्र साहू,अध्यक्ष जिला पंचायत दुर्ग शालिनी रिवेन्द्र यादव,अध्यक्ष जनपद पंचायत दुर्ग देवेन्द्र देशमुख,ब्लाक अध्यक्ष नन्द कुमार सेन,जिला सदस्य एवं सभापति योगिता चन्द्राकर,जिला अध्यक्ष किसान कांग्रेस पुकेश चन्द्राकर,जनपद सदस्य मनीष चन्द्राकर,जनपद सदस्य एवं सभापति राकेश हिरवानी,सरपंच उमा देवी चन्द्राकर,उपसरपंच अमित चन्द्राकर,पूर्व सरपंच संघ अध्यक्ष रिवेन्द्र यादव ,कैलाश सिन्हा,कृष्णा देवागंन,भरत साहू,राजेश शर्मा,डा जे डी चेलक,ओमप्रकाश साहू,मोन्टू तिवारी,इन्द्र जोशी,हेमेन्द्र सिन्हा,यादवेन्द्र चन्द्राकर,तेजराम चौहान,प्रदीप यादव,सहित मनरेगा मजदूर व ग्रामीण जन बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे।