राज्य के 1242 गौठान हुए स्वावलंबी, रायगढ़ जिले में स्वावलंबी बने सर्वाधिक 141 गौठान

राज्य के 1242 गौठान हुए स्वावलंबी, रायगढ़ जिले में स्वावलंबी बने सर्वाधिक 141 गौठान
RO No. 12200/36

RO No. 12172/87

RO No. 12200/36

RO No. 12172/87

RO No. 12200/36

RO No. 12172/87

'-गौठान से मिली स्वावलंबन की राह -मुख्यमंत्री को अपने विभिन्न उत्पादों की भरी टोकनी भेंटकर जताया आभार -बेलसर गौठान समिति ने वर्मी खाद बेचकर कमाए 8 लाख रूपए अपनी राशि से गौठान में लगाया तेल मिल, धान मिल और आटा चक्की दक्षिणापथ,रायपुर। शंकरगढ़ में आज मुख्यमंत्री के भेंट-मुलाकात कार्यक्रम में स्वसहायता समूहों की महिलाओं और गौठान समिति के सदस्यों ने राज्य शासन की महत्वाकांक्षी नरवा गरवा घुरवा बारी योजना के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। खरकोना ग्राम पंचायत के आश्रित ग्राम टिकनी के निराला स्वसहायता समूह की महिलाओं ने मुख्यमंत्री को बताया कि वे गौठान की 2 एकड़ जमीन में मिर्ची की खेती कर रही हैं। इससे पिछले साल उन्होंने डेढ़ लाख रुपए का मुनाफा कमाया है। उन्होंने मिर्ची की खेती में 50 हजार रुपए की लागत लगाकर दो लाख रुपए की मिर्ची बेची है। वे और एक अन्य स्वसहायता समूह गौठान में ही उड़द दाल बड़ी, हल्दी पाउडर, धनिया पाउडर और विभिन्न किस्म के आचार बनाने के काम में भी लगी हुई हैं। इन महिलाओं ने अपने स्वसहायता समूहों द्वारा तैयार उड़द दाल बड़ी, हल्दी पाउडर, धनिया पाउडर, जीरा फूल सुगंधित चावल तथा फूल गोभी, गाजर, मिर्ची, अदरक और नींबू का अचार मुख्यमंत्री को भेंट किया। भेंट मुलाकात के दौरान बेलसर के गौठन समिति के सदस्यों ने मुख्यमंत्री को बताया कि वर्मी कंपोस्ट बेचकर उसकी समिति ने आठ लाख रुपए कमाए हैं। इस रकम से उन्होंने गौठान में तेल मिल, धान मिल और आटा चक्की लगाया है। इससे गांव के कई लोगों को रोजगार मिल रहा है। यहां वर्मी कंपोस्ट का निर्माण करने वाली भारती स्वसहायता समूह की महिलाओं को भी वर्मी कंपोस्ट की बिक्री से साढ़े चार लाख रुपए मिले हैं। इन महिलाओं द्वारा बनाए गए 1383 क्विंटल वर्मी कंपोस्ट की बिक्री हुई है। नरवा गरवा घुरवा बाड़ी योजना के अंतर्गत गौठान निर्माण और वहां विभिन्न रोजगारपरक गतिविधियों के लिए अवसर और जगह उपलब्ध कराने के लिए स्वसहायता समूहों की महिलाओं और गौठान समिति के सदस्यों ने मुख्यमंत्री के प्रति आभार प्रकट किया।