रेटिना की बीमारियां आंखो की रोशनी के लिये हानिकारक

नई दिल्ली। हाल में सामने आया है कि रेटिना से जुड़ी बीमारियों से आंखो रोशनी पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है। क्योंकि इस बारे में लोगों को आसानी से पता नहीं चल पाता। विशेषज्ञों का कहना है कि अंधापन होने के कारणों की वजहों में आंखों से जुड़ी अन्य बीमारियों की तुलना में रेटिनल बीमारियां ज्यादा परेशानी का कारण बनती हैं। क्योंकि विभिन्न रेटिनल विकारों में उम्र से जुड़ी मैक्यूलर डिजनरेशन (एएमडी) और डायबिटिक मैक्यूलर इडिमा (डीएमई) दो ऐसी बीमारियां हैं, जिससे हमेशा के लिए आंखों की रोशनी खोने का डर रहता है। एएमडी और डीएमई को आसानी से मैनेज किया जा सकता है, अगर समय पर बीमारी की पहचान हो जाए। एम्स के पूर्व चिकित्सक एवं सीनियर कंसलटेंट विटरियोरेटिनल सर्जन और ऑल इंडिया कोलेजियम ऑफ ओपथालमोलोजी के प्रेसिडेंट डॉ. राजवर्धन आजाद ने कहा कि रेटिनल बीमारियों जैसे कि एएमडी में धुंधला या विकृत या देखते समय आंखों में गहरे रंग के धब्बे दिखना, सीधी दिखने वाली रेखाएं लहराती या तिरछी दिखना लक्षण है। आमतौर पर रेटिनल बीमारियों की पहचान नहीं हो पाती क्योंकि इसके लक्षणों से दर्द नहीं होता और एक आंख दूसरी खराब आंख की क्षतिपूर्ति करती है।

2 thoughts on “रेटिना की बीमारियां आंखो की रोशनी के लिये हानिकारक

  1. Pingback: pork rinds keto

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!