नगर के फारेस्ट डिपो में 26 श्रमिक कर रहे थे काम, नयाब तहसीलदार ने रोका

मुंगेली। जिला मुख्यालय अंतर्गत विकास खंड पथरिया मे कोरोना वायरस से बचाव के लिए पूरे क्षेत्र सहित पुरे भारत वर्ष में 144 धारा लागू है और नागरिक अपने घर मे ही रहकर लॉक डाउन का पालन कर रहे वही दूसरी ओर ब्लाक मुख्यालय पथरिया नगर पंचायत स्थित फारेस्ट डिपो में बिना अनुमति के 26 श्रमिक डिपो प्रभारी के देखरेख में कार्य कर रहे थे इसकी सूचना सूत्रों के द्वारा जानकारी मिलते ही नायाब तहसीलदार रमेश कमार व पटवारी नरेंद्र टोंडे के साथ डिपो में दबिश दिया जहाँ 26 श्रमिक बिना मास्क और सोसिअल डिस्टेंसिंग नियम का पालन बिना ही कार्य किया जा रहा था इस लापरवाही के लिए नायाब तहसीलदार ने उपस्थित डिपो प्रभारी और गार्ड को फटकार लगाते हुए कोरोना वायरस के रोकथाम के लिए शासन के द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन करने को कहा गया और तत्काल कार्य रोकने को कहा गया साथ ही पंचनामा तैयार करके वन विभाग के सम्बंधित अधिकारी कर्मचारियों के विरुद्ध कार्यवाही के लिए प्रतिवेदन उच्च कार्यालय को भेजा गया है । इस सम्बंध में नयाब तहसीलदार रमेश कमार का कहना है कि कलेक्टर मुंगेली के निर्देशानुसार क्षेत्र में कोविड 19 के रोकथाम के लिए शासन के सभी निर्देशो का पालन करना सुनिश्चित किया जा रहा है साथ ही निराश्रितों को आवश्यक खाद्यान सामग्री पहुचाई जा रही है उन्होंने मीडिया कर्मियों से अपील की है कि जहाँ भी शासन के गाइडलाइन का उलंघन हो हमे सूचित करें जिससे क्षेत्र को कोरोना से बचाया जा सके। सभी श्रमिकों को वही पर कोरोना के खतरे से परिचित कराते हुए अधिकारियों ने इससे बचने के उपाय और खतरे से अवगत कराया वही काम बंद रहने की स्थिति में शासन द्वारा श्रमिकों के कल्याण हेतु किये जा रहे कार्यो की जानकारी दी जिसमे दो माह का निशुल्क राशन के अलावा खाद्यान सामग्री प्रमुख रहा । ज्ञात हो हर वर्ष मानसून के पहले वन विभाग पौधे तैयार करता है जिसे बारिस के बाद रोपित कराया जता है इसी लिए डिपो में श्रमिक तैयारी कर रहे थे लेकिन बिना अनुमति और सुरक्षा नियमो को अनदेखी करते हुए श्रमिको से कार्य करना घोर लापरवाही से कम नही है वही इससे श्रमिको और उनके परिवार को खतरे में डालने जैसा ही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!