योगा और मार्निंग वाक करने वाले को दिये जाएंगे पौधे, रामायण मंडलियाँ भी देंगी सहभागिता

योगा और मार्निंग वाक करने वाले को दिये जाएंगे पौधे, रामायण मंडलियाँ भी देंगी सहभागिता
Ro No. 12294/64

Ro No. 12276/69

Ro No. 12276/69
Ro No. 12294/64

Ro No. 12276/69

Ro No. 12276/69
Ro No. 12294/64

Ro No. 12276/69

Ro No. 12276/69

दक्षिणापथ.काबुल
तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद लोग किसी भी तरह देश छोड़ने के लिए बदहवास दौड़ रहे थे। राजधानी काबुल के हामिद करजई एयरपोर्ट पर लोग अमेरिकी प्लेन से लटककर भागने तक की कोशिश करने लगे जिसमें कुछ की जान चली गई। इसी तरह के डर और मजबूरी की झलक अमेरिका के उस प्लेन के अंदर भी दिखाई दी जिसमें जगह तो 134 लोगों की थी लेकिन रिपोर्ट्स के मुताबिक 800 लोग भरे गए थे।

अमेरिकी वायु सेना के सी-17 ग्लोबमास्टर की तस्वीरें और वीडियो पहले से सोशल मीडिया पर शेयर हो रहे थे। काबुल एयरपोर्ट के रनवे पर प्लेन के साथ दौड़ लगा रहे लोगों का डर साफ था। अब उस प्लेन के अंदर की तस्वीर सामने आई है जिसमें साफ दिखाई दे रहा है कि लोग किसी भी तरह बस एक बार अफगानिस्तान में संगीनों के इस साये से बाहर निकलने को बेताब थे।


क्रू ने किया उड़ान का फैसला
Defense one को एक अधिकारी ने बताया है कि विमान का दरवाजा खुलते ही अफगानिस्तान से बाहर निकलने को तैयार लोग इस पर सवार होते चले गए। इस प्लेन की इतना लोड लेने की तैयारी नहीं थी लेकिन क्रू ने लोगों को बाहर नहीं निकाला और उनके साथ ही उड़ान भरने का फैसला किया। क्रू का एक ऑडियो सोशल मीडिया पर चल रहा था जिसके मुताबिक प्लेन में करीब 800 लोग थे जबकि अधिकारी के मुताबिक इसमें करीब 650 अफगान नागरिक थे।

134 लोगों की जगह
अमेरिका ने अपने इस विमान से अफगानिस्तान में फंसे 800 लोगों को एक बार में ही सुरक्षित रूप से बाहर निकाल लिया जबकि, इस विशालकाय विमान के सिंगल फ्लोर पर अधिकतम 134 लोगों के बैठने की ही जगह होती है। विमान के अंदर 80 लोग पैलेटों पर और साइडवॉल सीटों पर 54 लोग बैठ सकते हैं। तस्वीर में दिखा कि जमीन पर ही भारी संख्या में लोग बैठे हैं।

https://twitter.com/DefenseOne/status/1427395255788244992?ref_src=twsrc%5Etfw%7Ctwcamp%5Etweetembed%7Ctwterm%5E1427395255788244992%7Ctwgr%5E%7Ctwcon%5Es1_c10&ref_url=https%3A%2F%2Fnavbharattimes.indiatimes.com%2Fworld%2Fasian-countries%2Fus-plane-that-flew-with-reportedly-800-people-rescued-from-kabul-airport-afghanistan%2Farticleshow%2F85389613.cms

करीब 20 साल बाद, अफगानिस्‍तान की कमान तालिबान के हाथ में आ चुकी है। लोग बस किसी तरह उस हुकूमत से बच निकलना चाहते हैं जिसने उन्‍हें आतंक के खौफनाक चेहरे से रूबरू कराया। अफगानी जनता उन दिनों को फिर से नहीं जीना चाहती। यही वजह है कि जब तालिबान का कब्‍जा बढ़ा तो जो निकल सकते थे, उन्‍होंने सामान बांधना शुरू कर दिया। पिछले कुछ दिनों से पलायन का दौर जारी है।

होगा एक रेकॉर्ड

हालांकि, यह तस्वीर डिफेंस न्यूज वेबसाइट Defense One ने जारी की है और अमेरिकी सेना ने इस रेस्क्यू ऑपरेशन को लेकर आधिकारिक बयान नहीं दिया है। अगर इस घटना की पुष्टि हो जाती है तो यह अबतक के मिलिट्री विमानों के इतिहास में एक रिकॉर्ड होगा। इससे पहले 2013 में जब फिलीपींस में भयानक तूफान आया था, तब अमेरिका ने अपने सी-17 विमान के जरिए एक बार में 670 लोगों को बाहर निकाला था।