सीईओ जिला पंचायत ने किया ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण का निरीक्षण

सीईओ जिला पंचायत ने किया ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण का निरीक्षण

Ro No. 12111/89

Ro No. 12111/89

Ro No. 12111/89

उज्जैन । शनिचरी अमावस्या के अवसर पर मध्यप्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन में क्षिप्रा नदी के त्रिवेणी घाट पर हजारों श्रद्धालुओं ने डुबकियां लगाई। भगवान महाकालेश्वर की नगरी से लगभग 7 किलोमीटर दूर उज्जैन-इंदौर फोरलेन पर शिप्रा नदी के त्रिवेणी घाट पर प्राचीनतम शनि (नवग्रह) मंदिर स्थित है। यहां प्रतिदिन शनि की शांति के लिए श्रद्धालु आते हैं। शनिचरी अमावस्या पर त्रिवेणी घाट पर स्नान का विशेष धार्मिक महत्व है। इस कारण प्रत्येक शनिचरी अमावस्या पर मध्यप्रदेश के विभिन्न नगरों सहित आसपास के लोग यहां आकर स्नान करते हैं। साथ ही प्राचीन परंपरानुसार धारण किए कपड़े और जूते वहीं छोड़ कर नए कपड़े धारण करते हैं। शनिचरी अमावस्या पर स्नान करने आने वाले श्रद्धालुओं के अलावा 118 किलोमीटर की पंचकोशी पैदल यात्रा कर हजारों की संख्या में श्रद्धालु आज यहां पहुंचे। इसके चलते शहर के अनेक मंदिरों एवं सार्वजनिक स्थानों पर श्रद्धालुओं की काफी भीड़ जमा थी। पंचकोशी यात्रा के श्रद्धालु भी आज यहां अपनी यात्रा समाप्त कर त्रिवेणी घाट पर स्नान के बाद अपने घरों को लौट जाएंगे। पर्व स्नान और पंचकोशी यात्रा के समापन तथा श्रद्धालुओं की सुविधा और सुरक्षा के मद्देनजर जिला एवं पुलिस प्रशासन ने शहर एवं नदी के घाटों पर काफी इंतजाम किए हैं।