पाईप लाईन विस्तार से नगर की मुख्य मार्ग जर्जर

गांधी चौक से बस स्टैंड प्रवेश द्वार तक चलना कठिनाई भरा काम
-बहूत से घरों के पेयजल पाईप लाईन भी टूटे
-मुख्य मार्ग कीचड़ युक्त चार पहिया वाहन चलना क्या दो पहिया वाहन चलाना मुश्किल काम
दक्षिणापथ,देवकर(रमेश जैन देवकर)।
नगर मे विगत चार पांच दिन पहले पाईप लाईन विस्तार कायॆ का काम चला जिसमें पाईप बिछाने के लिये संबन्धित ठेकेदार द्वारा जे,बी,सी, से नगर प्रवेश द्वार से स्थानीय गांधी चौक मैदान तक खुदाई किया गया जिसमे पाईप डाल कर गढ्ढे को ऐसे तेसे पाट दिया गया है न गढ्ढे भरे गये न समतल किया गया है जिससे नगर मुख्य मार्ग पर चलना पैदल दो पहिया वाहन से बड़ा मुश्किल और परेशानी का काम हो गया है पाईप लाईन के लिये खोदा गया गढ्ढे, मिट्टी पुरे मुख्य मार्ग पर फैली हुई जिससे नालियों की पानी, पेयजल पाईप लाईन भी टूटे पड़े है उनके पानी फैलने से कीचड़ युक्त हो गया है।
जिससे पैदल चलने से या दो पहिया वाहन से चलने से कभी भी फिसल कर गिरने का पुरा पुरा जोखिमहै खोदाई के बाद सहि ढगं से पाईप डालने के बाद जगह को पाटा है न ही समतल किया गया है जिससे अव्यवस्था का आलम हो गया है चार पहिया वाहन का नगर मे प्रवेश न तो बस स्टैंड प्रवेश द्वार से न ही गांधी चौक से हो पायेगा कोरोना काल में किसी मरीज को नगर अन्दर से लेजाना हो तो शायद ही हो पायेगा क्योंकि दो पहिया वाहन चलाने मे असुविधा है तो चार पहिया वाहन कहाँ से चल पायेगी।
इस संदर्भ मे जब नगर पंचायत देवकर मुख्य कायॆ पालन अधिकारी ठाकुर से पुछा गया तो उनका कहना था कि खोदाई किया गया जगहों को समतल करने का काम कमॆकारीयो द्वारा किया जा रहा है।
पाईप लाईन विस्तार कायॆ कर रहे ठेकेदार की लापरवाही ही है की नगर की मुख्य मागॆ को आवागमन की मुख्य रास्ता को गंभीरता से न लेते हुऐ लापरवाही पूवॆक कायॆ किया गया है जिससे नगर के अन्दर आना नगर से बाहर जाना बड़ा ही जोखिम भरा काम हो गया है कोरोना की इस महामारी बीमारी के समय ऐसे भी नगर मे भयावाह स्थिति है कोरोना पाजिटिव मरीजो की पुष्टि रोजाना हो रहे है और जो बाहर जाकर कोरोना का ईलाज करवा रहे है दुगॆ, रायपुर, बिलासपुर आदि और भी अन्य स्थानों वहां से किसी न किसी की मृत्यु की समाचार मिल ही जाती है जिससे नगर वासीयों मे डर भय का वातावरण निर्मित है ।

वतॆमान स्थिति में अगर नगर अन्दर से किसी भी व्यक्ति की स्वास्थ्य खराब होती हो और गंभीर अवस्था मे नगर से बाहर लेजाने की नौबत आती है यह बहूत ही मुश्किल काम होगा क्योंकि चार पहिया वाहन का नगर मे प्रवेश मुख्य मार्ग पर बहुत ही कठिन काम है ओ भी मरीज लेजाने के लिये तो बड़ा ही जोखिम है साथ ही साथ नगर के अन्दर चार पांच मेडिकल स्टोर है जहां नगर के विभिन्न वार्डो के लोगों को दवाओं के लिये आना जाना पड़ता है साथ ही दवा खाना मरीजों का आना जाना लगा हुआ जिन्हे भी काफी परेशानी, कठिनाईयो का सामना करना पड़ रहा है।
इस ओर नगर के जन प्रतिनिधियों की भी उदासीनता और अनदेखा रवैय्या महसूस किया जा रहा है क्योंकि मुख्य मार्ग इतना खराब हो चूका है इस ओर किसी का ध्यान नहीं जा रहा है आमजनता परेशान हो रहे हैं मरीजों को आने जाने मे तकलीफ हो रही है इससे इन्हें मानो कोई सरोकार नहीं है।

error: Content is protected !!