सतीश पारख ने कहा , आवासीय क्षेत्रों से बाहर हो कोविड प्रभावित मृतकों का दाह संस्कार…

दक्षिणापथ, उतई । कोविड 19 पूरे प्रदेश में भयावह रूप से पैर फैला रहा है जिससे ज्यादा प्रभावित अनेक लोग मौत के आगोश में समा रहे है जिससे मुक्तिधामों में भीड़ भरा गमगीन माहौल देखते बनता है कि लोग कितने दुखी व भयभीत है।जानकारी अनुसार यह बात भी खुलकर आई है कि कोविड हवा के माध्यम से भी फैल आमजन को प्रभावित कर सकता है ।ऐसी स्थिति में कोविड से ज्यादा प्रभावित मृतकों की बढ़ती संख्या के कारण उनका दाह संस्कार शहरों व आवासीय छेत्रों के बीच स्थित मुक्तिधामों में करना बीमारी को और ज्यादा बढ़ावा देना है और ऐसा करने से मुक्तिधाम के आस पास के रहवासी भी भय के माहौल में रहने व जीने को मजबूर है ।जिला प्रशासन को चाहिए कि कॅरोना से प्रभावित मृतकों का दाह संस्कार शहरी व आवासीय छेत्रों से दूर खुले छेत्रों में करे जहां से कम से कम 2/4,किलोमीटर तक कोई आवासीय छेत्र ना हो ना ही कोई भय का वातावरण निर्मित हो…किया जाना चाहिए।

इस हेतु आज उतई अस्पताल का निरीक्षण करने पहुंचे जिलाधीश दुर्ग श्री भूरे जी से मौखिक चर्चा हुई की इस मामले पर भविष्य में कोई परेशानी ना बढ़े उसके मद्देनजर जिला प्रशासन व सरकार फ़ैसला पूरे प्रदेश के मामले में ले।व मृतकों का दाह संस्कार आवासीय छेत्र से बाहर करें।
अभी अभी उतई में भिलाई इस्पात संयंत्र की वाहन से आई 5 लाशों के अंतिम संस्कार किया गया और आने की जानकारी मिल रही है। इस विषय पर आमजनों में रोष व्याप्त है खासकर मुक्तिधाम से लगे आवासीय छेत्र के लोगों में ज्यादा ही डर व भय देखने को मिल रहा हैं। प्रशासन इस पर विचार करे।

error: Content is protected !!