निर्मम और बेशर्म प्रदेश कांग्रेस सरकार,कोरोना मरीजो के शवों को कचरा गाड़ी में परिवहन और असम के नेताओं पर प्रदेश का खजाना लुटाया जा रहा है- जितेन्द्र वर्मा

दक्षिणापथ,दुर्ग। भाजपा विधायक दल के स्थायी सचिव जितेन्द्र वर्मा ने कहा कि भूपेश सरकार इस कदर बेशर्म और संवेदनहीन हो चुकी है कि एक तरफ राजनांदगांव जिले के डोंगरगांव में कोरोना मरीजों के शवों को कचरा गाड़ी में परिवहन करके श्मशान घाट ले जाया जा रहा है और दूसरी तरफ बस्तर के चित्रकोट के सरकारी रेस्ट हाउस में असम के बोडो पीपुल्स फ्रंट के प्रत्याशियों की मेहमाननवाजी की जा रही है, जिसमें भूपेश बघेल और उनका पूरा सरकारी तंत्र व्यस्त है ताकि असम में कांग्रेस की सरकार बनाकर राहुल गांधी की नजरों में अपना नंबर बढ़ाया जा सके। चिकित्सा सुविधा दुरुस्त कराने और कोरोना को नियंत्रित करने की बजाय कांग्रेस सरकार की पूरी ऊर्जा असम में अपनी सरकार बनाने में लगी है। छत्तीसगढ़ की जनता की मेहनत की कमाई को असम के बोडो पीपुल्स फ्रंट के प्रत्याशियों खातिरदारी में लगाकर उन्हें मांस और मदिरा सहित तमाम ऐशो आराम के साधन उपलब्ध कराए जा रहे है साथ ही बस्तर की गौरवशाली संस्कृति को भी दूषित किया जा रहा है। पूर्व में भी हमारे संवेदनहीन मुख्यमंत्री मार्च के महीने में कोरोना के पीक टाइम में छत्तीसगढ़ की जनता को बेसहारा और लावारिस छोड़कर 1 महीने के लिए असम के चुनाव प्रचार में जुटे थे।

भाजपा विधायक दल के स्थायी सचिव जितेन्द्र वर्मा ने कहा कि प्रदेश में धारा 144 लागू है और प्रदेश के आधे से ज्यादा हिस्से में लॉकडाउन की स्थिति है। रोज बेतहाशा मौतें हो रही है। ऐसे में असम के नेताओं को यहां लाकर पॉलिटिकल टूरिज्म कराना नियमों का उल्लंघन करने के साथ-साथ बेशर्मी की पराकाष्ठा है। लॉकडाउन के चलते जहां पूरे प्रदेश में टूरिज्म पर प्रतिबंध लगा हुआ है, वही प्रदेश सरकार के सरकारी रेस्ट हाउस में दूसरे राज्य के नेताओं को ऐशोआराम के साधन उपलब्ध कराकर छत्तीसगढ़ की जनता के घावों पर नमक रगड़ा जा रहा है। ये अक्षम्य कृत्य है। प्रदेश के मुखिया की यह आचरण स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि उनकी प्राथमिकता छत्तीसगढ़ की जनता नहीं बल्कि असम और राहुल गांधी है। आने वाले समय में कांग्रेस सरकार की हर ओछी हरकत का जनता मुंहतोड़ जवाब देगी।

error: Content is protected !!