विक्रेताओं को भारत ई-मार्केट से जोड़ने के लिए कैट ने शुरू किया मोबाइल एप, कैट ने अपने ई-वाणिज्य पोर्टल के लिये विक्रेताओं को जोड़ने को लेकर मोबाइल ऐप शुरू किया

कैट के प्रदेश उपाध्यक्ष पवन बड़जात्या, एम्एसएम्ई प्रभारी मोहम्मद अली हिरानी, प्रदेश मिडिया प्रभारी संजय चौबे, दुर्ग इकाई अध्यक्ष प्रह्लाद रुंगटा, आशीष निमजे, सुशील बाकलीवाल, मनोज गोयल,अमर कोटवानी, अरविंद खंडेलवाल, अनिल बल्ल्लेवर, ने बताया की व्यापारी संगठन कैट ने अपने आगामी ई-कॉमर्स पोर्टल ‘भारत ई-मार्केट’ से विक्रेताओं को जोड़ने के मोबाइल एप की शुरुआत की है। इसके जरिए कारोबारी एवं सेवा प्रदाता पोर्टल पर पंजीकरण पर अपनी ई-दुकान शुरू कर सकते हैं।

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के प्रदेश मिडिया प्रभारी संजय चौबे ने कहा कि स्वदेसी भारत ई-मार्केट पोर्टल देश के सभी नियमों का पालन करेगा। पोर्टल में कोई विदेशी निवेश स्वीकार्य नहीं होगा और उपयोगकर्ताओं के आंकड़े पूरी तरह से देश में ही रहेंगे। चौबे ने कहा कि विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियां देश के नियम एवं कानूनों का उल्लंघन कर ई-कॉमर्स बाजार को खराब कर रही हैं। इसके मद्देनजर व्यापारियों और ग्राहकों को ध्यान में रखकर तैयार ई-कॉमर्स पोर्टल जरूरी था। इस साल दिसंबर तक सात लाख और और दिसंबर, 2023 तक एक करोड़ कारोबारियों को पोर्टल से जोड़ने का लक्ष्य है।

error: Content is protected !!