नगर देवकर मे कोरोना बीमारी से मौत का तांडव: कई परिवार के परिजनों को निगल लिया कोरोना

लगातार हो रही मौत से देवकर मे सनसनी
बेटा की मृत्यु पर मां, पिता, भाई, भाभी, पत्नी को खबर नहीं

दक्षिणापथ, देवकर (रमेश जैन)। देवकर नगर देवकर मे कोविड 19 का इस बार कोरोना वायरस मानो देवकर वासीयों के लिये मौत का पैगाम लेकर आया हो नगर के अलग-अलग वार्डो से नगर वासी कोरोना संक्रामक होने से और हालत ज्यादातर बिगड़ने से इलाज कराने दुगॆ, रायपुर, कवर्धा, बिलासपुर, राजनादंगांव, आदि जगहों पर गये और वहाँ कोरोना नाम की यमराज ने अपना तांडव खेल खेलकर कई परिवार के सदस्यों को अपने गिरफ्त में लेकर मातम,मे भर दिया है लगातार मौत की खबर से नगर वासीयों मे सनसनी फैल चूकी है।
नगर मे एक घर से कई सदस्यों की मौत हो गई है मां,बेटे,पुत्र,पिता,घर के मुखिया, आदि ऐसे भयानक नजारे है जो लोगों को अन्दर से हिला दिया है सबसे ज्यादा संकट की धडी खड़ा हुआ है रोजाना लोगों को सुबह शाम रात किसी न किसी कोरोना से मौत का समाचार मिल रहा देवकर मे पशु चिकित्सालय मे कायॆरत्त डाक्टर एल,डी,चन्द्राकर परिवार जहां पुरे परिवार कोरोना संक्रामित है और घर के सभी सदस्य अलग अलग जगहों पर इलाज करा रहे है इसी परिवार के गिरजा चन्द्राकर जो डाक्टर एल डी चन्द्राकर का छोटा बेटा है ने कोरोना वायरस की भयावाह चपेट मे आकर दम तोड़ दिया पर उसके मां पिता, बड़े भाई, भाभी, पत्नी छोटे छोटे बच्चों को किसी उनके मौत की जानकारी नहीं है कोरोना ने ऐसा भयानक तांडव मचाया है की किसी भी परिजनों को बताने लायक नहीं छोड़ा है क्योंकि बाक़ी गिरजा चन्द्राकर के परिजनों की सभी सदस्यों का कोरोना इलाज अलग अलग जगहों पर चल रहा है।

कोरोना ने अग्रवाल परिवार, गुप्ता परिवार, जैन परिवार, मुसलमान परिवार, कुजामं परिवार, ब्रहमण परिवार, आदि और भी लोगों को अपना निशाना बना कर मौत की शिकंजे मे जकड़ लिया है जिससे इन परिवारो मे अहाकार मचा हुआ है कई महिलाओं की मांग की सिंदूर मिट गया, कई बच्चों के मां बाप का साया चला गया, अनाथ हो गये,कहीं एक लौटे बेटे मौत के मुंह मे समा गया तो कहीं? मौत का सिलसिला जारी है रोज दुखद समाचार मिलने लोगों का मन मलीन हो जाता है कोरोना ने लोगों को रोना ही रोना कर दिया है।
नगर मे रोजाना कोरोना पाजिटिव मरीज मिलने रहे है टेस्ट होने पर लगातार कोरोना संक्रामित लोगों की पहचान हो रही है बहूत से लोग बाहर इलाज करा रहे है बहूत से लोग होम क्वारंटाइन मे है जहां वे अपनी खुद का इलाज कर रहे है डाक्टर की सलाह से दवाओं और खानपान मे दिन काट रहे है बहूत से होम क्वारंटाइन मे रहे व्यक्ति ठीक हो गये है।
लाकडाऊन के चलते अभी वतॆमान मे नगर की गलियों मे सन्नाटा पसरा हुआ है दुकानें बन्द और लोग घरों पर है।

error: Content is protected !!