एनजीओ के नाम पर मानव संसाधन की सेवा की बात करने वाली संस्थाये इस कोरोना काल मे गायब क्यो है : देवेश मिश्रा

दक्षिणापथ, दुर्ग। राष्ट्र उत्कर्ष अभियान छत्तीसगढ़ के संयोजक व जिला कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता देवेश मिश्रा ने आज कोरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए चिंता जाहिर की है। उन्होंने कहा कि कोरोना से निपटने की जिम्मेदारी सिर्फ चिकित्सक और चिकित्सा स्टाफ की ही नहीं है। सभी को मिलकर इसका सामना करना होगा और इसके साथ ही साथ वे लोग, जो इस महामारी से संक्रमित हो रहे हैं उन्हें और भी ज्यादा अपने ध्यान रखने की जरूरत है। लगातार देखा जा रहा है कि कोरोना संक्रमित परिवार के लोग अपनी जरूरत की चीजों के लिए किराना दुकान और सब्जियों इत्यादि के लिए खुलेआम सुबह-सुबह बाजार के चक्कर काट रहे हैं,और येन केन प्रकारेण कहीं ना कहीं से वे अन्य लोगों के संपर्क में आ रहे हैं। इससे किसी भी प्रकार से कोरोना से निपटने में हमें परेशानी होगी। प्रवक्ता देवेश मिश्रा ने यह भी कहा कि आज वह सब संस्थाएं वह सब समितियां और एनजीओ के नाम पर लगातार मानव संसाधन की सेवा करने वाली बात करने वाली संस्थाएं कहां लुप्त हो गई है? ऐसे लोग जो बड़े-बड़े क्लब और एनजीओ के नाम पर सरकार से सुविधाएं प्राप्त करती रही है,ऐसे संस्था और उनके मुखिया आज कहां गायब है ?समझ से परे है।

इस विकट परिस्थिति में राज्य शासन और केंद्र शासन दोनों को चाहिए कि ऐसी संस्थाएं और एनजीओ जो समाजिक और स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए विशेष कर से पंजीकृत हुई है, उनसे सेवाएं ले और जो सेवाएं न दे रहे हो ऐसे लोगों को चिन्हित करें ।वहीं दूसरी ओर ऐसे लोग और ऐसी संस्थाएं जो इस कोरोना काल में भी मानव सुविधाएं दे रहे और सेवा का कार्य भोजन,दवा वितरण आवागमन आदि कर रहे हैं। उनका योगदान काबिले तारीफ है,हम उनका स्वागत करते हैं ।यह समय एक दूसरे को सहयोग करने का है,न किसी पर छींटाकशी करने का ।मैं विरोधी राजनीतिक दल और जितने भी अन्य राजनीतिक और सामाजिक संस्थाएं हैं,सभी से अनुरोध करता हूं ,कि वह इस भयंकर महामारी के समय में लोगों का सहयोग करें सरकार का सहयोग करें और जो लोग इन कार्यों में लगे हैं उनका उत्साहवर्धन करें उन्हें सुरक्षा प्रदान करें।

error: Content is protected !!