उमर खालिद के भाषण को नई दिल्ली में भड़की हिंसा से जोड़कर देख रही हैं एजेंसियां : सूत्र

नई दिल्ली । देश की राजधानी दिल्ली की हिंसा को लेकर एजेंसियां पड़ताल में जुटी हैं। इश मामले में जवाहरलाल यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के पूर्व छात्र उमर खालिद एक बार फिर विवादों के घेरे में हैं। इस बार 17 फरवरी को महाराष्ट्र के अमरावती में दिए कथित भाषण का वीडियो सामने आने के बाद वह जांच एजेंसियों की नजरों में आ गए हैं। दरअसल, एजेंसियां खालिद के भाषण को पिछले दिनों नई दिल्ली में भड़की हिंसा से जोड़कर देख रही हैं। सूत्रों के मुताबिक एजेंसियों को शक है कि दिल्ली की हिंसा सुनियोजित थी और इस बात का शक उन्हें खालिद के भाषण से हो रहा है। खालिद ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे से पहले महाराष्ट्र के अमरावती में कहा था कि ट्रंप को बताया जाएगा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को बांटने की कोशिश कर रहे हैं। खालिद ने लोगों के एकजुट होने और सड़कों पर उतरने की जरूरत बताई थी। 17 मिनट के अपने भाषण में उन्होंने कहा था कि देश के हर कोने में आज एक शाहीन बाग है। सूत्रों का कहना है कि इसके बाद दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर रहे लोगों ने जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास शाहीन बाग दोहराने का प्लान बना लिया है।
सीएए विरोधियों के इस फैसले के बाद भारतीय जनता पार्टी नेता कपिल मिश्रा के नेतृत्व में सीएए के समर्थकों की भीड़ भी सड़क पर आ गई। मालूम हो कि मिश्रा पर भी भड़काऊ भाषण देने का आरोप है। एजेंसियां लेफ्ट के महिला अधिकार संगठन पिंजड़ा तोड़ की महिला कार्यकर्ताओं को लेकर भी जांच कर रही हैं जिन्होंने नॉर्थईस्ट दिल्ली के स्थानीय लोगों को प्रदर्शन में शामिल करने की कोशिश की। पुलिस के मुताबिक इन ऐक्टिविस्ट्स ने जाफराबाद मेट्रो स्टेशन पर लोगों से 22 फरवरी को इकट्ठा होने की अपील की थी। हिंसा के बाद कई ऐक्टिविस्ट्स ने वहां इकट्ठा होने की कोशिश की लेकिन उन्हें बलपूर्वक हटा दिया गया और कइयों को गिरफ्तार भी किया गया। दिल्ली पुलिस का स्पेशल सेल खालिद का वीडियो सामने आने के बाद हिंसा में भूमिका की जांच कर रहा है। गौरतलब है कि अभी फरेंसिक अधिकारी इस बात की जांच करेंगे कि वीडियो से कोई छेड़छाड़ तो नहीं की गई है। ज्ञात हो कि अपने भाषण में उमर खालिद ने कहा था, ‘जब अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप भारत में होंगे तो हमें सड़क पर उतरना चाहिए। 24 तारीख को ट्रंप आएंगे तो बताएंगे कि हिंदुस्तान की सरकार देश को बांटने की कोशिश कर रही है। महात्मा गांधी के उसूलों की धज्जियां उड़ा रही है। यह बताएंगे कि हिंदुस्‍तान की आवाम हिंदुस्‍तान के हुक्‍मरानों के खिलाफ लड़ रही है। उस दिन हम तमाम लोग सड़कों पर उतरकर आएंगे।’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!