शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों से बात करने को तैयार सरकार, रविशंकर बोले- शंकाएं करेंगे दूर

नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए मोदी सरकार तैयार है. केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने अपने एक ट्वीट में इस बात के संकेत दिए हैं. रविशंकर प्रसाद का कहना है कि सरकार लोगों से बात करने के लिए तैयार है लेकिन एक व्यवस्थित तरीके से. दिल्ली के शाहीन बाग में पिछले करीब 50 दिन से नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ प्रदर्शन चल रहा है जो दिल्ली के चुनाव में बड़ा मसला बन गया है.

एक टीवी कार्यक्रम में केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘…अगर आप विरोध कर रहे हैं तो अच्छी बात है…लेकिन आपके लोगों का जब हम कोई स्वर सुनते हैं वो कहते हैं कि CAA जबतक वापस नहीं होगा तो बात नहीं होगी. अगर ये चाहते हैं कि सरकार का कोई प्रतिनिधि बात करे तो एक स्ट्रक्चर तरीका होना चाहिए. अगर आप कहिएगा कि वहीं पर आकर बात करिए, तो कैसे होगा’.

गौरतलब है कि दिल्ली के शाहीन बाग में पिछले करीब 50 दिनों से विरोध प्रदर्शन हो रहा है. यहां हजारों की संख्या में मुस्लिम महिलाएं नागरिकता संशोधन एक्ट, एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन कर रही हैं. इस विरोध प्रदर्शन के कारण दिल्ली-नोएडा के रास्ते में रुकावट पैदा हो रही है जिसपर बीजेपी की ओर से निशाना साधा जा रहा है.

शाहीन बाग में बैठे प्रदर्शनकारियों का कहना है कि मोदी सरकार के द्वारा लाया गया CAA कानून संविधान के खिलाफ है. ये कानून अल्पसंख्यकों के खिलाफ है जो भारत के मूल नियमों का उल्लंघन करती हैं.

दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज पर देश के कई हिस्सों में इस प्रकार का प्रदर्शन हो रहा है, लखनऊ से लेकर मुंबई, बेंगलुरू से लेकर कोलकाता तक बीते दिनों में हजारों की संख्या में मुस्लिम महिलाएं इस कानून के खिलाफ आवाज़ उठा रही हैं.

बता दें कि बीते गुरुवार इस बात के संकेत मिल रहे थे कि शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी बंद पड़े एक रास्ते को खोल सकते हैं, ताकि लोगों को नुकसान ना हो. लेकिन जब देर रात को प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू होने वाली थी, तो प्रदर्शनकारियों के बीच असहमति के सुर दिखाई पड़े और फिर इस तरह का फैसला रद्द हो गया.

गौरतलब है कि दिल्ली के विधानसभा चुनाव में शाहीन बाग का विरोध प्रदर्शन एक बड़ा मुद्दा बना है. भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की ओर से चुनाव प्रचार में कई ऐसे बयान दिए गए हैं, जो विवाद का विषय बने हैं. खुद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एक सभा में कहा है कि दिल्ली के चुनाव से तय होगा कि आप शाहीन बाग के साथ हैं या फिर भारत माता के नारों के साथ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!