स्कूल शिक्षा मंत्री ने डिप्लोमा कोर्स करने वाली छात्राओं को प्रदान किए सर्टिफिकेट

स्कूल शिक्षा मंत्री ने डिप्लोमा कोर्स करने वाली छात्राओं को प्रदान किए सर्टिफिकेट

Ro No. 12111/89

Ro No. 12111/89

Ro No. 12111/89

दक्षिणापथ। अगर आप अपने गुस्से को नियंत्रित नहीं कर पाते हैं और अपने आस-पास की वस्तुओं को तोडऩे या चिल्लाने लगते हैं, तो इससे आप खुद को ही मानसिक और शारीरिक तौर पर नुकसान पहुंचाते हैं। इतना ही नहीं, गुस्सा आपके काम और निजी संबंधों में तनाव पैदा करता है। आइए आज हम आपको कुछ ऐसे प्राणायामों के अभ्यास का तरीका बताते हैं, जो गुस्से को नियंत्रित करने के साथ आपको शांत रखने में मदद कर सकते हैं। नाड़ी शोधन प्राणायामनाड़ी शोधन प्राणायाम के लिए सबसे पहले योगा मैट पर सुखासन की मुद्रा में बैठें, फिर दाएं हाथ की पहली दो उंगलियों को माथे के बीचों-बीच रखें। अब अंगूठे से नाक के दाएं छिद्र को बंद करके नाक के बाएं छिद्र से सांस लें, फिर अनामिका उंगली से नाक के बाएं छिद्र को बंद करके दाएं छिद्र से सांस छोड़ें। इस दौरान अपनी दोनों आंखें बंद करके अपनी सांस पर ध्यान दें। कुछ देर बाद प्राणायाम छोड़ दें। कपालभाति प्राणायामकपालभाति प्राणायाम के अभ्यास के लिए पहले योगा मैट पर पद्मासन की मुद्रा में बैठें और अपने दोनों हाथों को घुटनों पर ज्ञान मुद्रा में रखें। इसके बाद अपनी दोनों आंखों को बंद करें और अपने पूरे शरीर को ढीला छोड़कर नाक से गहरी सांस लें, फिर पेट की मांसपेशियों को सिकोड़ते हुए इस सांस को छोड़ें। कुछ मिनट तक इस प्रक्रिया को दोहराते रहें। इसके बाद धीरे-धीरे अपनी आंखों को खोलें और प्राणायाम का अभ्यास बंद कर दें। अनुलोम विलोम प्राणायामअनुलोम विलोम प्राणायाम के लिए पहले योगा मैट पर पद्मासन की मुद्रा में बैठें और अपनी दोनों आंखों को बंद कर लें। अब अपने दाएं हाथ के अंगूठे से नाक के दाएं छिद्र को बंद करके नाक के बाएं छिद्र से सांस लें, फिर अपने दाएं हाथ की अनामिका उंगली से नाक के बाएं छिद्र को बंद करके दाएं छिद्र से सांस छोड़ें। कुछ मिनट इस प्रक्रिया दोहराने के बाद धीरे-धीरे अपनी आंखें खोलें और प्राणायाम का अभ्यास छोड़ दें। उद्गीथ प्राणायामसबसे पहले योगा मैट पर पद्मासन या सुखासन की मुद्रा में बैठें और अपने दोनों हाथों को घुटनों पर ज्ञान मुद्रा में रख लें। अब दोनों आंखों को बंद करके गहरी सांस लें और इसे धीरे-धीरे छोड़ते हुए ओम का जाप करें। ध्यान रखें की जब आप यह उच्चारण कर रहे हों, तब आपका ध्यान आपकी सांसों पर केंद्रित हो। शुरूआत में इस प्राणायाम का अभ्यास 5'0 मिनट तक करें और फिर धीरे-धीरे समय बढ़ाएं।