छत्तीसगढ़ सरकार का बड़ा फैसला: वन अधिकार पट्टाधारी किसानों से भी होगी समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी

छत्तीसगढ़ सरकार का बड़ा फैसला: वन अधिकार पट्टाधारी किसानों से भी होगी समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी


Ro No. 12059/86



Ro No. 12059/86



Ro No. 12059/86

दक्षिणापथ.भिलाई। कामकाजी महिलाओं को अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिले तो वह उम्मीदों से भरा आसमान भी छू सकती है। इसे साबित कर दिखाया है महाराष्ट्र की बेटी और इस्पात नगरी भिलाई की बहू श्रीमती प्रेरणा ने। शहर के प्रख्यात चिकित्सक डॉ. उदय कुमार की पत्नी प्रेरणा धाबरडे को मुंबई में 6 व 7 फरवरी को आयोजित मिस-मिसेज इंडिया ग्लोबल क्वीन कॉन्क्लेव में देश भर की प्रतिभागियों के बीच मिसेस इंडिया ग्लोबल क्वीन ऑफ द क्वींस का खिताब दिया गया। अपनी हाजिर जवाबी और उत्कृष्ट प्रतिभा के दम पर प्रेरणा ने यह खिताब जीता।

क्लब एमराल्ड चेंबूर मुंबई में आयोजित राष्ट्रीय स्तर की इस प्रतियोगिता मेें 6 और 7 फरवरी को प्रेरणा ने अपनी प्रतिभा के दम पर तीन पुरस्कार हासिल किए। जिसमें क्राउन टाइमलेस ब्यूटी और क्राउन मिसेज इंडिया क्लासिक ग्लोबल क्वीन में प्रेरणा अपने समूह में विजेता रही। वहीं तीसरा और सबसे महत्वपूर्ण क्राउन सारे समूह के विजेताओं में से एक ऐसा मल्टी टास्कर और बैलेंसर चुनना था जो सब में सर्वश्रेष्ठ हो। जिसका टैलेंट, रैंप वॉक, क्वेश्चन आंसर और सोशल मीडिया में लोकप्रियता सबसे ज्यादा हो। इन सारे पैमानों पर प्रेरणा खरी उतरी और उन्हें मिसेस इंडिया ग्लोबल क्वीन ऑफ द क्वींस क्राउन से नवाजा गया। इस प्रतियोगिता में ज्यूरी के बतौर एक्टर और स्नूकर चैंपियन गौरव देशमुख, टाटा कैंसर हॉस्पिटल प्लास्टिक सर्जरी के विभागाध्यक्ष डॉ विनय कांत शंकधर और मुंबई में कोरोना के सबसे ज्यादा मरीजों का इलाज करने का रिकॉर्ड बनाने वाले फ्रंटलाइन कोरोनावायरस डॉक्टर खालिद थे। इनके साथ पूर्व मिसेज यूनिवर्स ,मिसेज एशिया पेसिफिक तथा मिसेस इंडिया भी शामिल थी।

प्रेरणा ने मिस और मिसेज इंडिया ग्लोबल क्वीन कॉन्क्लेव ऑर्गेनाइजर टीम का आभार जताते हुए कहा कि आयोजकों की वजह से पूरे भारत देश से आए सभी प्रतिभागियों का आत्मविश्वास बढ़ा और इस प्रकार की प्रतियोगिताओं से घर में रह रही महिलाओं को अपने अंदर छुपे हुनर को जानने और उसे तराशने का मौका मिलता है। प्रेरणा कहती हैं- मेरा यह भी सोचना है महिलाएं कोई भी काम बहुत अच्छे से कर सकती है अगर उन्हें सही अवसर मिले।

प्रेरणा ने कहा कि वह अपने छत्तीसगढ़ और भिलाई की महिलाओं के लिए कुछ अच्छा करना चाहती हैं। इनकी शिक्षा स्वास्थ्य और समृद्धि में वृद्धि करना उनका लक्ष्य है साथ ही मिसेज यूनिवर्स का क्राउन जीत कर भारत का नाम पूरी दुनिया में रोशन करना मेरा सपना है।
यहां उल्लेखनीय है कि प्रेरणा वर्तमान में दुर्ग राजनांदगांव के तीन अस्पतालों की निदेशक के तौर पर सक्रिय हैं। वहीं उनके परिवार में पति डॉ. उदय भिलाई स्टील प्लांट के जवाहरलाल नेहरू चिकित्सालय एवं अनुसंधान केंद्र सेक्टर-9 के बर्न और प्लास्टिक सर्जरी विभाग के प्रमुख हैं। उनके सुपुत्र उत्कर्ष नई दिल्ली एम्स में एमएस सर्जरी की पढ़ाई कर रहे और बेटी उन्नति रायपुर एम्स में एमबीबीएस अंतिम वर्ष में हैं। अपना ज्यादातर समय अस्पताल के संचालन, समाज सेवा तथा महिलाओं की समस्या को सुलझाने में व्यतीत करने वाली प्रेरणा ने बताया कि मुंबई में आयोजित प्रतियोगिता मेें डॉक्टर नीलम पराडिया और सुनीता भगत के नेतृत्व में काफी कुछ सीखने को मिला। जिससे उनका आत्मविश्वास बढ़ा। इसकी वजह से उन्होंने स्टेज पर बेहतर ढंग से बोलने की कला और अपने अंदर छुपी प्रतिभा को अभिव्यक्त करना सीखा। उल्लेखनीय है कि इसके पहले प्रेरणा साल 2020 में मिसेज छत्तीसगढ़ फर्स्ट रनर अप रह चुकी हैं।

निर्णायकों व दर्शकों के बीच अपनी हाजिर जवाबी से छा गई प्रेरणा
प्रतियोगिता का उल्लेखनीय पहलू यह रहा कि सोशल मीडिया पर लाइक और शेयर राउंड में देश के सभी प्रदेशों से आए प्रतिभागियों में से सबसे ज्यादा लोकप्रियता प्रेरणा के खाते में आई। उन्होंने योगा ट्रेनिंग राउंड में सारे योग अच्छी तरह से किए गए। वहीं टैलेंट राउंड में मराठी लावणी नृत्य को सभी ने काफी सराहा। उन्होंने िनर्णायकों के सवालों पर हाजिर जवाबी से उपस्थित लोगों का ध्यान अपनी ओर आकृष्ट किया। उनसे निर्णायकों ने पूछा कि मिसेज इंडिया ग्लोबल क्वीन विनर में क्या खूबियां होनी चाहिए? इस पर प्रेरणा ने जवाब दिया कि जिंदगी अवसर, अनुभव और सबक से भरी है जो इस से सामना कर ले और जीत जाए, वही मिसेस इंडिया ग्लोबल क्वीन का हकदार होना चाहिए। साथ ही वह नम्र, दयालु ,मानसिक रूप से सशक्त और समाज का भला करने वाला हो और जब मैं आईने में देखती हूं यह सब खूबियां मुझ में दिखती है इसलिए इस खिताब की मैं प्रबल हकदार हूं। प्रेरणा का यह जवाब निर्णायकों को बेहद पसंद आया और उन्हें मिस इंडिया ग्लोबल क्वीन, मिसेस इंडिया ग्लोबल क्वीन, मिसेस इंडिया ग्लोबल क्वीन क्लासिक और मिसेस इंडिया ग्लोबल क्वीन प्लैटिनम कैटेगरी में से सर्वसम्मति से चुनाव कर प्रेरणा धाबरडे को मिसेज इंडिया ग्लोबल क्विज ऑफ क्वींस का सबसे बड़ा ताज दिया। प्रेरणा ने अपनी इस उपलब्धि से ‘छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया’की कहावत को सच कर दिखाया।