जनता की सुविधा सर्वाेपरि है -अनिला भेड़िया

जनता की सुविधा सर्वाेपरि है -अनिला भेड़िया


Ro No. 12059/86



Ro No. 12059/86



Ro No. 12059/86

हर किसी के जीवन में मुश्किल समय आता है और इस दौरान जो आपका साथ देता है, वो आप खुद हैं। विपरीत समय में खुद से बात करना बहुत फायदेमंद साबित होता है और आप कई चीजों को हैंडल करना सीखते हैं। पॉजिटिव बने रहने के लिए सेल्‍फ टॉक भी एक जरिया है।
हम सभी को खुद से बात करनी चाहिए क्‍योंकि इससे हमें अपने अंतर्मन में चल रही चीजों के बारे में पता चलता है और हम खुद को अच्‍छी तरह से समझ और जान पाते हैं। जब भी हमारे सामने कोई मुश्किल खड़ी हो या कठिन निर्णय लेना हो, तो सबसे पहले हमें खुद से बात करनी चाहिए। हालांकि, सेल्‍फ टॉक यानि खुद से बात करना पॉजिटिव तरीके से होना चाहिए ताकि हम चीजों के अच्‍छे पहलुओं को देख पाएं और तनावभरी स्थितियों में शांत रह पाते हैं। आपको ये अच्‍छी आदत अपने बच्‍चों में भी डालनी चाहिए। इस आर्टिकल में हम आपको यही बताने जा रहे हैं कि आप अपने बच्‍चे को किस तरह पॉजिटिव सेल्‍फ टॉक सिखा सकते हैं ताकि वो एक सफल बन सके। क्‍या होती है सेल्‍फ टॉक पॉजिटिविटी एक ऐसा बिहेवियर होता है जिसमें हम चीजों के अच्‍छे नहलू को देखते हैं। इससे आशावादी बनने और चुनौतियों के सामने खड़े रहने में मदद मिलती है। सेल्‍फ टॉक आपके अंदर की आवाज है जो शायद हर रोज आपको सुनाई देती होगी। जब हमें किसी से मिलने में डर लगता है, तो हम खुद से बात कर के अपने आप को शांत करवाने की कोशिश करते हैं। इसे ही सेल्‍फ टॉक कहते हैं। ये पॉजिटिव और नेगेटिव दोनों हो सकती है। खुद की वैल्‍यू इससे आप मुश्किल प‍रिस्थितियों को भी आसानी से पार कर लेते हैं और अपनी खुद की वैल्‍यू को समझ पाते हैं। ​सेल्‍फ टॉक के फायदे क्‍या हैं. नेगेटिव सेल्‍फ टॉक से मोटिवेशन कम होती है और बच्‍चे का आत्‍मविश्‍वास भी छिन जाता है। वहीं पॉजिटिव सेल्‍फ टॉक से बच्‍चे का आत्‍मविश्‍वास बढ़ता है और जिंदगी के प्रति उसका सकारात्‍मक रवैया रहता है। ​सेल्‍फ टॉक सुधारने के तरीके इसके लिए सबसे पहले आप खुद के बारे में जानें और अपने मन की बात को सुनना शुरू करें। मुश्किल समय में सेल्‍फ टॉक ज्‍यादा काम आती है और अगर आप पॉजिटिव सेल्‍फ टॉक करना चाहते हैं तो सबसे पहले खुद को जानें। ​इसके फायदों के बारे में बात करें बच्‍चों को पॉजिटिव रहने के फायदों के बारे में बताएं। उन्‍हें बताएं कि मुश्किल सिचुएशन में किस तरह पॉजिटिव रहने से मदद मिलती है और आप विपरीत परिस्थितियों को बदल भी सकते हैं। पॉजिटिव सेल्‍फ टॉक से बच्‍चे बेहतर विकल्‍प चुन पाते हैं और इनका फायदा भी उन्‍हें मिलता है। ​सेल्‍फ टॉक की किताबें पढ़ें किताबें, पॉजिटिव एटीट्यूड और साइकोलॉजी का बेहतरीन स्रोत होता है। बच्‍चों की कई किताबें हैं जो आपको सेल्‍फ टॉक के लिए मोटिवेट कर सकती हैं। आप हैरी पॉटर और श्रेक जैसी पॉपुलर किताबों से मुश्किल परिस्थितियों में अच्‍छे पाठ सीख सकते हैं और पॉजिटिव सेल्‍फ टॉक भी सीख सकते हैं।