महज कुछ माह में ही अव्यवस्था की भेंट चढ़ी करोड़ों की लागत से बनी नहर योजना…..

दक्षिणापथ,बेमेतरा । खुडमुड़ा टार बांध सुदृढ़ीकरण योजना के तहत खुडमुड़ा में सिंचाई हेतु विगत 2 माह पूर्व हुए लगभग 2.50 किलोमीटर का कार्य अव्यवस्था का भेंट चढ़ गया है। यह कार्य 2 माह पूर्व लगभग 2 करोड़ की लागत से हुआ था। इस निर्माण कार्य से जहां सिंचाई व्यवस्था सुदृढ होने की आशंका से किसान खुश थे वही अब किसानों में मायूसी आ गयी है। क्योंकि यह कार्य व्यवस्थित रूप से न होकर अव्यवस्था का भेंट चढ़ गया है। जिला पंचायत सभापति एवं अंकुर समाज सेवी संस्था के प्रदेश संयोजक राहुल योगराज टिकरिहा ने ग्रामीणों के साथ नहर का निरीक्षण कर जायजा लिया। निरीक्षण के दौरान बहुत से अनियमितता और गुणवत्ता में कमी पाई गई है। सभापति टिकरिहा ने जानकारी देते हुए बताया कि नहर से लगे खेतो के मेड की मिट्टी बहकर नहर में आ गए है साथ ही मेड में लगे तार घेरा भी टूट रहा है। सबसे दुर्भाग्य की बात तो यह है कि नहर के पानी को जिस ओर बहना था उस ओर न बहकर विपरीत धारा में बह जाती है। नहर के आस पास के खेत बंजर हो गए है जो इसी पानी से लहलहाते थे।

नहर से लगे खेत के मालिकों ने बताया की मेड के मिट्टी नहर पानी से कटाव के कारण बह जा रहा है। जिससे मेड टूट रहे है और तार घेरा भी टूट गया है। तार घेरा के टूटने से जानवर खेतों में घुसकर फसल को क्षति पहुंचा रहें है। निरीक्षण के दौरान प्रमुख रूप से सकुन वर्मा, उर्वशी वर्मा, अहिल्या वर्मा, रजनी वर्मा, कृष्णा राव, रामनारायण वर्मा, सूरज कुमार सोनवानी, राजेंद्र प्रसाद वर्मा, राकेश सेन (पंच ),सीताराम यादव, कमल वर्मा, राजेंद्र वर्मा, बघेला नायक, फत्ते, रामचंद्र यादव, शिव कुमार पहाड़ी, चंद राम, लतेलु यादव, मोहन यादव, राजेश साहू, परदेसी यादव, नारायण साहू, पवन यादव, संतोष वर्मा, जितेंद्र यादव, राकेश साहू, गजेंद्र वर्मा, साकेत साहू उपस्थित थे।

एक ओर तट बंधन ही नहीं

नहर में हुए कार्य में एक तरफ तटबंध ही नहीं है। जिससे एक तरफ के पार और खेत का मिट्टी नहर में बहकर आ गया है और लगातर कटाव हो रहा है। उस ओर के खेतों के मेढ़ और फेंसिग पोल नहर में ही समाहित हो चुके है। जिससे किसानों को नुकसान का सामना करना पड़ रहा है।

पुल और किसान के खेतों के मेढ़ व फैंसिंग पोल जालियाँ हो रही क्षतिग्रस्त

नहर में बने छोटे-छोटे पुल अभी से टूटना प्रारंभ हो गया है। पुल को बने मात्र 2 महीना हुए है जो टूट रहे है। ये निर्माण कार्य के गुणवत्ता का पोल खोल रहे है। वहीं एक किनारे खेतों के सभी मेढ़ व फैंसिंग पोल व जालियाँ नहर में ही समाहित हो गयी है।महज 2 माह में ही अव्यवस्था और भ्रष्टाचार की भेंट चढ़े इस कार्य का निरीक्षण ग्रामीणों के साथ किया हूँ। इस कार्य की जांच के लिए माननीय जल संसाधन मंत्री महोदय और कलेक्टर महोदय को निवेदन करूंगा। वहीं निर्माण एजेंसी का बोर्ड भी नहीं लगा हुआ है। दोषियों पर उचित कार्यवाही की मांग करता हूँ।

राहुल योगराज टिकरिहा
सभापति- जिला पंचायत बेमेतरा

error: Content is protected !!