समयमान वेतन में विलंब से शिक्षकों में आक्रोश….

दक्षिणापथ, दुर्ग । सहायक शिक्षकों के समयमान वेतन आदेश जल्द जारी करने की माँग को लेकर छत्तीसगढ़ शिक्षक संघ दुर्ग ईकाई की आनलाईन वर्चुअल बैठक जिला अध्यक्ष हरनारायण सिंह राजपूत की अध्यक्षता एवं संयोजकत्व में समपन्न हुई। बैठक में निर्णय गया कि शिक्षक संवर्गो की वेतन विसंगति के लिए संघ का संघर्ष एवं प्रयास निरंतर जारी रहेगा।
बैठक में सहायक शिक्षक एवं ब्याख्याता के समयमान में ब्याप्त विसंगति को दूर करते हुए सहायक शिक्षक को 15600-39100+5400 ग्रेड वेतन, लेबल 12 तथा ब्याख्याता को 15600-39100+7600 ग्रेड वेतन, लेबल 14 के तृतीय समयमान (तीस वर्ष ) वेतनमान का आदेश बिना आर्थिक ब्यय भार की गणना किये सीधे जारी करने की पुरजोर माँग शासन -प्रशासन से की गई।
संघ ने कहा है कि सहायक शिक्षकों को समयमान देने के लिए आर्थिक ब्यय भार की गणना कराये जाने का कोई औचित्य नहीं है।यह समस्या को लंबित रखने एवं न्यायोचित अधिकार से वंचित रखने का प्रयास है।बैठक में शिक्षकों ने आश्चर्य ब्यक्त किया कि जब अन्य संवर्गों को समयमान वेतन देते समय ब्यय भार की गणना नहीं की गई तो केवल सहायक शिक्षकों के समयमान वेतनमान के लिए ही ऐसा क्यों किया जा रहा है।
बैठक में प्राथमिक एवं मिडिल प्रधानपाठक, शिक्षक,ब्याख्याता एवं प्राचार्य के रिक्त पदों को पदोन्नति से जल्द भरने की माँग शासन से की गई शिक्षकों ने कहा कि शिक्षक संवर्गों के हजारों पद रिक्त है।पदोन्नति के अभाव में शिक्षा की गुणवत्ता पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।
और सैकडों शिक्षक पदोन्नति के बिना ही सेवानिवृत्त होने विवश हैं।
बैठक में पदोन्नति, समयमान वेतन सहित विभिन्न लंबित समस्याओं एवं संगठनात्मक विषयों पर भी ब्यापक चर्चा हुई एवं सदस्यों ने इस पर अपने विचार रखे।स्थानीय लंबित समस्याओं को लेकर ज्ञापन सौंपने का निर्णय भी बैठक में लिया गया।
बैठक में प्रान्ताध्क्ष ओंकार सिंह प्रांतीय महामंत्री यसवंत वर्मा प्रांतीय उपाध्यक्ष हरि शर्मा प्रांतीय संगठन मंत्री प्रदीप शर्मा प्रांतीय प्रवक्ता जगदीश गोस्वामी ने भी हिस्सा लिया एवं सदस्यों का संगठनात्मक मार्गदर्शन किया।
बैठक में जिला सचिव देवेन्द्र तिवारी कोषाध्यक्ष लेखराम साहु,नरेन्द्र वर्मा पुर्णिमा चन्द्राकर ब्लाक अध्यक्ष नेम सिंह साहु सुरेश चन्द्राकर निरेश पिपरिया के के धीवर विक्रम चोपडे़ विमल ताम्रकार मोहित शर्मा विजय सुनहरे सुशील ठाकुर डोमार चन्द्राकर प्रदीप सिन्हा शंकर चन्द्राकर भगतराम बन्छोर नोहरलाल वर्मा सहित अनेकों शिक्षकों ने हिस्सा लिया।

error: Content is protected !!