न्याय ना मिलने तक जारी रहेगा आंदोलन, पत्रकार से मारपीट की घटना पर बीजापुर के पत्रकारों ने जताया विरोध, राज्यपाल के नाम सौंपा ज्ञापन


दक्षिणापथ, बीजापुर। पत्रकार कमल शुक्ला के साथ हुई मारपीट और दुर्व्यवहार की घटना को लेकर मंगलवार को बीजापुर प्रेस क्लब ने राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंप अपना विरोध जताया।
प्रेस क्लब अध्यक्ष सतेंद्र पंथ के नेतृत्व में पत्रकारों ने एसडीएम डॉ हेमेंद्र भुआर्या को ज्ञापन सौंपा जिसमे घटना का जिक्र करते हुए दोषियों के विरुद्ध धारा 307 कायम करते उनकी यथाशीघ्र गिरफ्तारी, कांकेर कलेक्टर व एसपी को मामले की निष्पक्ष जांच के लिए त्वरित हटाने, प्रदेश में पत्रकारों से दुर्व्यवहार, मारपीट, राजनीतिक षड्यंत्र के विरुद्ध शीघ्र पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करने की मांग की गई है। घटना पर रोष व्यक्त करते प्रेस क्लब अध्यक्ष सतेंद्र पंथ ने कहा कि कांकेर में जो कुछ भी हुआ, वह सीधे तौर पर लोकतंत्र पर हमला है, इसकी जितनी भर्त्सना की जाए कम है। महासचिव पुष्पा ने घटना को निंदनीय करार देते कहा कि लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ को बचाए रखने और समाज मे स्वस्थ्य,जिम्मेदार और निर्भीक पत्रकारिता के लिए आवश्यक है कि प्रदेश में प्राथमिकता से पत्रकार सुरक्षा कानून लागू हो। पूर्व प्रेस क्लब अध्यक्ष गणेश मिश्रा का कहना था कि कमला शुक्ला एक कर्मठ और निष्पक्ष पत्रकार है। कांकेर की घटना के बाद प्रदेश में पत्रकारिता स्वतंत्र है, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता कायम, यह कहना कठिन होगा। घटना दुर्भाग्यपूर्ण है और पूरे मामले में सरकार से जैसी निष्पक्ष कार्रवाई की उम्मीद थी, उसके अनुरूप कार्रवाई ना होंने से यह प्रतीत होता है कि अपराधियों को सरकार का संरक्षण प्राप्त है, बाबजूद न्याय को लड़ाई लंबी है और प्रदेश भर के पत्रकार इस लड़ाई के लिए तैयार है,जब तक कि मामले में निष्पक्ष कार्रवाई नहीं हो जाती पत्रकार गांधीवादी तरीके से आंदोलनरत रहेंगे। इस दौरान बीजापुर जिले के समस्त पत्रकार मौजूद थे। सभी ने एक स्वर में पत्रकार कमल शुक्ला को न्याय दिलाने आंदोनरत रहने का संकल्प भी दोहराया।

error: Content is protected !!