पत्थलगांव-प्रेस क्लब ने वरिष्ठ-पत्रकार कमल-शुक्ला के ऊपर हुए जानलेवा हमले की कड़ी निंदा करते हुए आरोपियों पर कड़ी कार्यवाही की मांग की

पत्रकारों ने हमले की कड़ी-निंदा करते हुए हमलावरों पर कड़ी कार्यवाही की मांग की

दक्षिणापथ,पत्थलगांव। छत्तीसगढ़ प्रदेश में भी उत्तरप्रदेश की तर्ज पर प्रदेश के कलमकारो के ऊपर, प्रदेश के कुछ सफेदपोश नेताओ की खाल ओढ़े माफियाओं-आपराधिक-प्रवित्ति के लोगो के द्वारा सत्ता के अहंकार में प्रदेश के चौथे स्तंभ पर लगातार हमलो से पूरे प्रदेश के कलमकार व समस्त पत्रकार-संगठनो में आक्रोश पनपता जा रहा है, जिसको लेकर आने वाले दिनों में समस्त पत्रकार संगठनों के द्वारा प्रदेश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने की तैयारी की जा रही है, कांकेर के वरिष्ठ-पत्रकार कमल शुक्ला,जीवानन्द हलधर,सतीश यादव पर कांकेर के ही आपराधिक-प्रवित्ति के माफियाओं जो कि कतिपय नेता बताए जा रहे हैं, कतिपय नेताओं के द्वारा कांकेर के पत्रकारो पर जानलेवा हमला किया गया, जिसको लेकर पत्थलगांव प्रेस क्लब के सदस्यों ने कड़ी निंदा करते हुए मामले के आरोपियों की त्वरित रूप से गिरफ्तारी करने की बात कही गई है, पत्रकारो पर हमलावर करने वाले लोगो पर कड़ी कार्यवाही करने हेतु पत्थलगांव प्रेस क्लब के सदस्यो द्वारा प्रदेश के राज्यपाल महोदया के नाम एसडीएम पत्थलगांव को ज्ञापन सौंपा गया।
*प्रेस-क्लब के पदाधिकारियो सहित सदस्यों की हमले पर रही तीखी प्रतिक्रिया:
कांकेर के वरिष्ठ पत्रकार कमल-शुक्ला एवं अन्य पत्रकार पर जानलेवा हमला करने वाले सफेदपोश नेताओ के खिलाफ पत्थलगांव प्रेस क्लब के सदस्यों ने एक सुर में काफी तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि एक तरफ प्रदेश सरकार पत्रकार सुरक्षा कानून को लेकर प्रदेश के पत्रकारों के सुझाव आमंत्रित कर रही है, वही कुछ लोग इस तरह के कृत्य कर सरकार की छवि पर बट्टा लगा रहे हैं, ऐसे अपराधिक-माफियाओं के खिलाफ पत्थलगांव प्रेस क्लब प्रदेश के मुख्यमंत्री सहित प्रदेश के अन्य मंत्री गण, विधायक प्रदेश कांग्रेस संगठन के पदाधिकारी गण से मांग करता है, की ऐसे अपराधिक-छवि के नेताओं को पार्टी व संगठन से बाहर करते हुए, इन लोगों के खिलाफ वरिष्ठ पत्रकार कमल शुक्ला पर जानलेवा हमला करने के आरोप में भारतीय दंड संहिता की धारा 307 के तहत कड़ी कार्रवाई करें। पत्रकारो ने ज्ञापन के माध्यम से मांग किया है कि हमलावरों को जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाये और प्रदेश में पत्रकारों पर हो रहे हमलों धमकी पर तुरंत रोक हेतु प्रदेश के समस्त जिलों के पुलिस-अधीक्षकों को तुरन्त निर्देशित किया जाए,साथ ही राज्य में जल्द जल्द से पत्रकार सुरक्षा कानून लागू किया जाय जिससे की इस प्रकार के घटनाओं को रोका जा सके जिससे पत्रकार निर्भीक हो अपना कार्य कर सकें।

error: Content is protected !!