मुख्यमंत्री गौरव अलंकरण ‘‘ज्ञानदीप‘‘ से पुरस्कृत शिक्षिका ने विद्यालय को समर्पित की पुरस्कार की राशि

दक्षिणापथ, दुर्ग। धमधा विकासखंड के अंतिम छोर एवं दुर्ग विकासखंड से लगा शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय ‘‘पोटिया‘‘ किसी परिचय का मोहताज नहीं है। यह विद्यालय न केवल जिले बल्कि राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर स्वच्छ व प्रेरक विद्यालय के रूप में चिन्हांकित है। विगत दिनों में इस विद्यालय की शिक्षिका श्रीमती रुकमणी सोरी को मुख्यमंत्री गौरव अलंकरण के तहत ‘‘ज्ञानदीप‘‘ पुरस्कार से सम्मानित किया गया। मैडम रुकमणी सोरी ने विद्यालय की परंपरा के अनुसार राशि शाला विकास योजना के कार्यो के लिए विद्यालय को समर्पित कर दी है। इसके पूर्व विद्यालय के ही शिक्षक श्री पवन सिंह व टी. आर. साहू ने भी अपनी पुरस्कार राशि विद्यालय को समर्पित कर चुके हैं। शिक्षिका श्रीमती सोरी को यह पुरस्कार शिक्षा के क्षेत्र में विगत 22 वर्षों से निरंतर उनके अध्ययन अध्यापन में किए जा रहे नवाचारी कार्यों के लिए प्रदान किया गया है। शासकीय शिक्षिका के रूप में विगत बाईस वर्षों से जुड़े होने के अंतर्गत बच्चों में सीखने की गति को सरल एवं आसान बनाने तो विभिन्न गतिविधियों के संचालन, पर्यावरण चेतना, नैतिक शिक्षा माताओं को शाला से जोड़कर माता उन्मुखीकरण का आयोजन। कक्षा कक्ष में ठहराव हेतु लगातार किए जाने वाले प्रयास, बच्चों द्वारा समूह में टी.एल.एम का निर्माण करते हुए विविध नवाचारी प्रयोग करवाना। महापुरुषों के जन्म दिवस पर निबंध प्रतियोगिता एवं जन्म दिवस मनाना, खेल-खेल में शिक्षा हेतु टी.एल.एम का निर्माण करना। कोविड-19 महामारी के इस दौर में बच्चों को शिक्षा से जोड़े रखने के साथ-साथ ऑनलाइन शिक्षण के साथ-साथ मोहल्ला कक्षा में अपनी पूर्ण सहभागिता प्रदान करते हुए सीखने सिखाने के लिए प्रयासों के कारण बच्चों में शिक्षा के प्रति रुचि जागृत हुई है। इन्हीं कार्यों के आधार पर इन्हें इस वर्ष मुख्यमंत्री गौरव अलंकरण ‘‘ज्ञानदीप‘‘ पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया है। उनके द्वारा विद्यालय को पुरस्कार राशि प्रदान करने पर संकुल समन्वयक श्री अमितेश तिवारी, प्राथमिक शाला प्रधान पाठक श्री टी.आर.साहू एवं विद्यालय के शिक्षकों ने आभार व्यक्त करते हुए हर्ष जताया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!