आरंग में कोरोना जांच के लिए सामने नही आ रहे लोग,बिगड़ सकती है आरंग की स्थिति

दक्षिणापथ, आरंग। आरंग में कोरोना संक्रमण का खतरा अब घर-घर पहुँच चुका है,लोग सर्दी, खांसी,सरदर्द जैसे लक्षण को गंभीरता से नही ले रहे है लिहाजा बाद में समस्या बढ़ जाती है और मरीज की जान पर बात आ जाती है। आरंग में कोरोना के मरीज लगभग सभी वार्डो में मिल चुके है,लेकिन सिर्फ पॉजिटिव मरीज और उनके परिजन ही कोरोना की जांच करा रहे है,जो लोग कोरोना संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में आये है वे जांच कराने से डर रहे है।यही कारण है कि आरंग ब्लॉक में नगर की अपेक्षा ग्रामीण इलाकों के लोग ज्यादा जागरूक नजर आ रहे है। विकासखंड चिकित्सा अधिकारी के अनुसार आरंग ब्लॉक में अबतक लगभग 950 से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव मरीज मिल चुके है जिसमे लगभग 600 लोग ठीक हो गए है वही लगभग 350 कोरोना से संक्रमित है।जबकि 3 लोगो की इससे मौत हो चुकी है। आरंग ब्लॉक में मरीजो में लगातार बढ़ोतरी हो रही है।
आरंग के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की रिपोर्ट के अनुसार जून में आरंग ब्लॉक में मात्र 6 कोरोना मरीज थे,जुलाई में 142,अगस्त में 252,और सितम्बर में अबतक 530 से अधिक मरीज मिल चुके है।इस प्रकार आरंग ब्लॉक में अबतक लगभग 950 कोरोना संक्रमित मरीज मिल चुके है।इसमे ग्रामीण क्षेत्र से लगभग 725 तथा शहरी क्षेत्र से लगभग 225 कोरोना संक्रमित मरीज है।इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि ग्रामीण क्षेत्रों के लोग शहरी क्षेत्र के लोगो की अपेक्षा ज्यादा से ज्यादा कोरोना जांच करवा रहे है।
विकासखंड चिकित्सा अधिकारी डॉ.के.एस.राय के अनुसार आरंग नगर में कोरोना तेजी से बढ़ रहा है लेकिन यहाँ के लोग जाँच में सहयोग नही कर रहे है जिसका खामियाजा सभी को भुगतना पड़ेगा।जब तक लोग जांच के लिए आगे नही आएंगे तब तक हमारा स्वास्थ्य विभाग भी कुछ नही कर सकता।
वही इस पर आरंग एसडीएम विनायक शर्मा ने आरंग के लोगो से अपील की है कि आरंग की जनता शासन -प्रशासन का सहयोग करे। लोग जागरूकता का परिचय देते हुए कोरोना जाँच अवश्य कराये,शरीर मे हल्का भी लक्षण दिखाई देता है तो तुरंत आरंग के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र आकर कोरोना की निःशुल्क जांच कराए तथा इसका इलाज भी निःशुल्क किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!