भवन एवं सड़क के लंबित 637 निरीक्षण प्रतिवेदन के शीघ्र निराकरण के निर्देश

तकनीकी परीक्षक सतर्कता ने ली लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन अभियंताओं की वर्चुअल बैठक

दक्षिणापथ,रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्य तकनीकी परीक्षक (सतर्कता ) द्वारा आज राज्य के सभी जिलों के लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन अभियंताओं की वर्चुअल बैठक लेकर भवन एवम सड़क निर्माण के लंबित निरीक्षण प्रतिवेदनों के निराकरण की अद्यतन स्थिति की गहन समीक्षा की। तकनीकी परीक्षक श्री आर . पुराम ने कहा कि आज की स्थिति में लोक निर्माण विभाग के विभिन्न संभागों के कुल 637 निरीक्षण प्रतिवेदनों का उत्तर लंबित है । उन्होंने इस संबंध में एक-एक कर कार्यपालन अभियंताओं से जानकारी ली और शीघ्र जवाब भिजवाने के निर्देश दिए । श्री पुराम ने कार्यपालन अभियंताओं को लंबित प्रकरणों में शामिल बिंदुओं का जवाब तैयार करने में किसी भी तरह के तकनीकी अड़चन आने पर इसके लिए मुख्य तकनीकी परीक्षक (सतर्कता ) कार्यालय से संपर्क एवं सलाह लेने की भी हिदायत दी ।

बैठक में जानकारी दी गयी कि राज्य में भवन निर्माण के 301 ,सड़क के 246, ब्रिज के 46, नेशनल हाईवे के 25 एडीबी के 2 , इलेक्ट्रिकल एवम मैकेनिकल के 5, सीजीआरडीसी के 12 प्रकरण लंबित हैं। जिसकी सूची मुख्य तकनीकी परीक्षक सतर्कता के व्हाट्सएप ग्रुप द्वारा सभी कार्यपालन अभियंताओं को उपलब्ध करा दी गई है । तकनीकी परीक्षक ने लंबित प्रकरणों के ऐसे बिंदु जो संगठन द्वारा अधीक्षण अभियंता अथवा मुख्य अभियंता स्तर पर लंबित है, के निराकरण के लिए कार्यपालन अभियंताओं को स्वयं रूचि लेकर उनके निराकरण की पहल करने के निर्देश दिए। यह समीक्षा बैठक दो पालियों में आयोजित की गई थी । प्रथम पाली में दोपहर 12:00 बजे से 2:00 बजे तक रायपुर दुर्ग एवं बस्तर संभाग के लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों की बैठक ली गई , जबकि दूसरी पाली अपराह्न 3:00 से 5:00 के मध्य बिलासपुर एवं अंबिकापुर संभाग के लंबित निरीक्षण प्रतिवेदनों की समीक्षा की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!