डोर-टू-डोर सर्वे के दौरान औचक पहुंचे कलेक्टर ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की हौसलाअफजाई की

मौके पर पहुंचे और कहा आप लोग बहुत अच्छा कार्य कर रही हैं, कोविड की रोकथाम में आपकी अहम भूमिका
-तीन दिनों में बावन हजार घरों में सर्वे कर चुकी कार्यकर्ता
दक्षिणापथ, दुर्ग।
कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे आज भिलाई के विभिन्न वार्डों में चल रहे डोर-टू-डोर सर्वे का काम देखने पहुंचे औचक पहुंचे। वहां आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर सर्दी-खांसी, बुखार, गले में खराश जैसे लक्षणों वाले मरीजों को चिन्हांकित करने का कार्य कर रही थीं। कलेक्टर ने दो-तीन घरों में उनके द्वारा किये जा रहे कार्यों को देखा। फिर उन्होंने प्रपत्र देखा। प्रपत्र पांच प्रकार के भरे जा रहे थे। पहले प्रपत्र में मुखिया और परिवार के डिटेल हैं। दूसरे प्रपत्र में पचास वर्ष से कम लक्षण युक्त लोग हैं। तीसरे में पचास वर्ष से अधिक लक्षण युक्त और लक्षण मुक्त लोगों की जानकारी है। अंतिम दो प्रपत्र नगरीय निकायों को भेजी जाने वाली जानकारी से संबंधित हैं। कलेक्टर ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा किये जा रहे कार्य की प्रशंसा की और उनकी हौसलाअफजाई करते हुए कहा कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम की दिशा में आप लोगों का कार्य बेहद महत्वपूर्ण है। आप लोग बहुत अच्छे से यह कार्य कर रहे हैं। पाटणकर कालोनी की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता माया खंडेलवाल ने बताया कि हम लोग अतिरिक्त बीमारियां भी दर्ज कर रहे हैं। साथ ही यह भी बता रहे हैं कि लक्षण नजर आये तो तुरंत टेस्ट करा लें। यदि लक्षण सामान्य हो तो आपको मेडिकल किट दे दी जाएगी और आप घर पर रहकर ही स्वास्थ्य लाभ ले सकते हैं। लक्षण गंभीर होने पर आपको अस्पताल रिफर किया जाएगा। चूंकि यह बहुत तेजी से फैलने वाली बीमारी है अतएव तुरंत अस्पताल जाकर आपके लिए ठीक होना आसान हो जाएगा क्योंकि इसमें संक्रमण की वजह से आक्सीजन लेवल तेजी से घटता है। कलेक्टर ने कहा कि लोगों से कहें कि बिना हिचके अपने लक्षण बताएं। बीमारी को छिपाने से कुछ भी हासिल नहीं होगा अपितु अचानक यह स्थिति गंभीर हो सकती है और फिर अस्पताल ले जाने से मरीज को बचा पाना मुश्किल होता है। कोविड की जितनी जल्दी पहचान हो जाए। उतना ही अच्छा है, त्वरित इलाज आरंभ हो जाने से मरीज को खतरा कम हो जाता है। इसी तरह भिलाई नगर निगम आयुक्त ऋतुराज रघुवंशी ने भी भिलाई क्षेत्र के विभिन्न वार्डों में चल रहे डोर-टू-डोर सर्वे कार्य देखा। श्री रघुवंशी ने भी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की प्रशंसा की और उन्हें कहा कि लोगों से कहें कि बिना हिचके लक्षण बताएं और टेस्ट कराएं। जितना जल्दी कोविड का प्रभावी इलाज आरंभ हो जाता है रिकवरी तेजी से होने लगती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!