आद्य गौड़ ब्राम्हण सेवा न्यास 3 करोड़ की लागत से समाजबंधुओं के लिए बनाएगा सर्व सुविधायुक्त भवन

इन्दौर । आद्य गौड ब्राह्मण सेवा न्यास द्वारा राजमोहल्ला स्थित खालसा स्टेडियम पर आयोजित सर्व ब्राह्मण समाज के वैश्विक परिचय सम्मेलन का समापन आज ब्राम्हण बंधुओं के लिए खुशखबरी के साथ हुआ। न्यास के अध्यक्ष पं. दिनेश शर्मा ने जब मंच से घोषणा की कि जल्द ही इन्दौर में तीन करोड़ रू. की लागत से समाज का ऐसा भव्य भवन बनकर तैयार होगा जहां समाज बंधुओं के बच्चों के लिए छात्रावास, सर्व सुविधायुक्त विद्यालय, सभागृह, उद्यान, अतिथिगृह एवं अन्य सभी सुविधाएं उपलब्ध रहेंगीं। इसके लिए प्रथम चरण में एक करोड़ रू, की सहयोग राशि के संकल्प भी मिल चुके हैं। मंच पर मौजूद भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने भी खुले मन से न्यास की इस योजना की सराहना की और कहा कि एक साथ इतनी बड़ी संख्या मंे ब्राम्हणों के दर्शन का सौभाग्य चार धाम यात्रा के पुण्य जैसा है।
परिचय सम्मेलन की प्रक्रिया सुबह 10 बजे से ही प्रारंभ कर दी गई थी। देश के लगभग सभी राज्यों से आए करीब 1800 प्रत्याशियों को मंच पर पहंुचकर परिचय देने का अवसर मिला और देर शाम तक मिली सूचनाओं के अनुसार करीब 225 रिश्ते इस सम्मेलन में तय हो चुके हैं जबकि 500 से अधिक संबंधों पर चर्चाओं का दौर चल रहा है। प्रत्याशियों की अधिक संख्या को देखते हुए देर शाम तक परिचय का मैराथन दौर चलता रहा। रविवार को सम्मेलन स्थल पर पैर रखने की जगह भी बमुश्किल मिल सकी। समाजबंधुओं की मौजूदगी ने स्टेडियम को छोटा बना दिया।
दोपहर में भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय एवं विधायक पं. रमेश मेंदोला भी सम्मेलन स्थल पहंुचे। न्यास के अध्यक्ष पं. दिनेश शर्मा, महामंत्री सुरेश शर्मा काका, राजेंद्र शर्मा, राजकिशोर शर्मा, डॉ. लोकेश जोशी, महेश शर्मा, प्रमोद जोशी, पं. अखिलेश शर्मा, अजय व्यास, सुमन शर्मा, गौतम मारवाल, आनंद पुरोहित आदि ने अतिथियों का स्वागत किया। पूर्व आईएएस अधिकारी केदार शर्मा, डॉ. कौशल किशोर पांडे, पं. कल्याणदत्त शास्त्री और विधायक संजय शुक्ला ने भी सम्मेलन स्थल पहंुचकर देश-विदेश से आए मेहमानों की अग्रवानी की। न्यास के अध्यक्ष पं. दिनेश शर्मा ने करतल ध्वनि के बीच घोषणा की कि जल्द ही न्यास द्वारा अमृत कलश योजना का क्रियान्वयन किया जाएगा। इसके अंतर्गत करीब 3 करोड़ रू. की लागत से उपयुक्त जमीन पर एक सर्व सुविधायुक्त भव्य भवन बनाया जाएगा जिसमें छात्रावास, विद्यालय, उद्यान, अतिथिगृह सहित सभी सुविधाएं उपलब्ध रहेंगीं। हम चाहते हैं कि ब्राम्हण समाज का कोई बंधु किसी के सामने हाथ नहीं फैलाए। खुशी की बात है कि इसमें से एक करोड़ रू. के संकल्प समाज के बंधुओं ने पहले ही दे दिए हैं। मंच पर ऐसे सेवाभावी बंधुओं का विजयवर्गीय एवं मेंदोला ने सम्मान भी किया। न्यास के अध्यक्ष पं. दिनेश शर्मा का भी सम्मान किया गया। मंच का संचालन डॉ. लोकेश जोशी ने किया और परिचय सम्मेलन के मंच का संचालन पं. विनय शर्मा, रूपाली शर्मा, भारती शर्मा, रश्मि शर्मा, पं. प्रद्युम्न दीक्षित, अमित नायक एवं मनोज शर्मा ने किया। देर शाम तक परिचय का मैराथन दौर चलता रहा। अगला परिचय सम्मेलन 9-10 जनवरी 2021 को होगा।
मुख्य अतिथि कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि इतने सारे ब्राम्हणों और विद्वानों को एकत्र करने का काम मेंढकों को तराजू में तोलने जैसा है। अमृत कलश योजना एक महत्वाकांक्षी योजना है। आने वाली पीढ़ियां इस योजना से लाभान्वित भी होंगी और याद भी रखेंगीं। यहां परिचय सम्मेलन को इतने व्यवस्थित रूप से देखकर आनंद आ गया। यह संगठन शक्ति और नेतृत्व की सफलता का प्रमाण है। मैं कई वर्षों से यहां आ रहा हूं और मुझे हर बार बहुत कुछ नया देखने को मिलता है। विजयवर्गीय ने प्रत्याशियों और पालकों से आग्रह किया कि वे चमड़ी अर्थात प्रत्याशी का रंग और दमड़ी अर्थात पैसा देखकर चयन नहीं करें। ब्राम्हण और वैश्य समाज में कभी तलाक नहीं होते थे लेकिन अब होने लगे हैं। इसके लिए हमें बहू और दामाद संस्कारी मिलना चाहिए। चमड़ी भी स्थायी नहीं है और लक्ष्मी भी, इसलिए संस्कारों को देखकर ही रिश्ते तय करें। सम्मेलन में विधायक पं. रमेश मेंदोला ने भी अपने विचार रखे। शुभारंभ भगवान परशुराम के चित्र पूजन एवं माल्यार्पण के साथ हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!