पोटियाकला अंग्रेजी शराब दुकान में बेजा वसूली

पोटियाकला अंग्रेजी शराब दुकान में बेजा वसूली

Ro No. 12111/89

Ro No. 12111/89

Ro No. 12111/89

दक्षिणापथ, दुर्ग। बिहान योजना अन्तर्गत आजीविका संवर्धन हेतु दुर्ग ब्लाक की ग्रामीण क्षेत्र की स्व-सहायता समूह की योजना की दीदियों द्वारा विभिन्न प्रकार के आकर्षक उत्पाद बनाये जा रहे है। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एस. आलोक के मार्गदर्शन में आईडीबीआई बैंक के जनरल मैनेजर एवं सीनियर रीजनल हेड राजेश मोहन झा एवं आईडीबीआई बैंक के उपमहाप्रबंधक शांति प्रकाश शिंडो द्वारा स्व-सहायता समूह द्वारा बनाये गये विभिन्न उत्पादों की सराहना की गई। रिद्धि- सिद्धि स्व-सहायता समूह उमरपोटी द्वारा आर्टिफिशयल ज्वेलरी, मॉं परमेश्वरी स्व-सहायता समूह महमरा द्वारा मसाला पाउडर, गायत्री स्व-सहायता समूह मतवारी द्वारा हर्बल साबुन, हर्बल हैण्डवाश, हर्बल फिनायल, वाशिंग पाउडर, फ्लोटिंग कैडल सौंदर्य, स्व-सहायता समूह थनौद द्वारा गणेशजी की मूर्ति, मॉ अम्बे स्व-सहायता समूह पीसेगांव गोबर का दीया, श्री गणेश स्व-सहायता समूह उमरपोटी पेंसिल, साई कृपा स्व-सहायता समूह कोलिहापुरी शो पीस (माइकम मिरर), स्पर्श स्व-सहायता समूह कोलिहापुरी झुमर बनाया जा रहा है, जिसकी प्रदर्शनी लगाई। आई.डी.बी.आई. के जनरल मैनेजर राजेश मोहन झा द्वारा महिलाओं की लगन व मेहनत की प्रशंसा ही नहीं की गई, अपितु उनके द्वारा प्रदर्शित समस्त उत्पादों को क्रय कर स्व-सहायता समूह की दीदीयों को प्रोत्साहित किया गया। भविष्य में आजीविका संवर्धन हेतु मदद के लिए आश्वस्त किया गया। मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत द्वारा उपस्थित समूह की महिलाओं को नियमित उत्पादों को करने का भरोसा दिलाया। इसी कडी में गायत्री स्व-सहायता समूह मतवारी की सक्रिय दीदी जागृति साहू ने देना आर.सेटी. में मशरूम के मास्टर ट्रेनर के रूप में चयनित होने के संबध में जानकारी दी, पीसेगांव की मॉ अम्बे स्व-सहायता समूह की दीदी प्रेमा देशमुख द्वारा गोबर के दीये की मांग विदेशों में होने की जानकारी दी गई। महिला स्व-सहायता समूह की दीदियों की इस अद्वितीय उपलब्धि की सराहना सभागार में उपस्थित सभी अधिकारियों द्वारा की गई जिला पंचायत सभागार में इस कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु जिला पंचायत के एडिशनल सीईओ केके तिवारी, जनपद पंचायत सीईओ जेएस राजपूत, कृषि विभाग से शर्मा सर, सहायक वि.वि.अधिकारी श्रीमती रुचि वर्मा, श्रीमती श्वेता यादव, सुश्री रेणुका कन्नौजे का योगदान रहा।