तेलंगाना में मंकीपॉक्स का पहला संदिग्ध मामला सामने आया, कुवैत से लौटा था शख्स

तेलंगाना में मंकीपॉक्स का पहला संदिग्ध मामला सामने आया, कुवैत से लौटा था शख्स

Ro No. 12111/89

Ro No. 12111/89

Ro No. 12111/89

हैदराबाद । तेलंगाना के कामारेड्डी में राज्य का पहला मंकीपॉक्स संदिग्ध मामला सामने आया। मंकीपॉक्स का ये संदिग्ध मरीज 6 जुलाई को कुवैत से कामारेड्डी जिले लौटा था। 20 जुलाई को बुखार हुआ उसके बाद 23 जुलाई को शरीर पर चकत्ते हो गए और कामारेड्डी के निजी अस्पतताल में दिखाया गया। डॉक्टरों को मंकीपॉक्स के लक्षण दिखने के बाद उसे फीवर अस्पताल रिफर कर दिया। जहां उसे मंकीपॉक्स आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है।
सार्वजनिक स्वास्थ्य निदेशक (डीपीएच) डॉ जी श्रीनिवास राव ने बताया कि रविवार शाम को उसका सैंपल मंकीपॉक्स चेक के लिए भेज दिया गया है। हालांकि 40 वर्षीय इस संदिग्ध मरीज के संपर्क में आए छह लोगों में कोई भी इस संक्रमण के लक्षण नहीं देखे गए हैं। लक्षण न दिखने के बावजूद इन छह लोगों को सावधानी बरतते हुए आइसोलेट कर दिया गयाहै।
डॉ जी श्रीनिवास राव ने एक विज्ञप्ति में कहा कि मरीज, इंदिरानगर कॉलोनी, कामारेड्डी जिले का एक 40 वर्षीय व्यक्ति, 6 जुलाई को कुवैत से आया था और 20 जुलाई को उसे बुखार हो गया था। मंकीपॉक्स के लक्षणों की पहचान की और उसे कामारेड्डी जिला अस्पताल रेफर कर दिया। डीपीएच ने कहा कि मरीज से कलेक्ट किए गए सैंपल को पुणे में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी को भेजे जाएंगे। तब तक उसे फीवर अस्पताल में आइसोलेशन में रखा जाएगा और इलाज किया जाएगा। उन्होंने लोगों को मंकीपॉक्स को लेकर चिंता नहीं करने की सलाह दी, डॉक्टर ने कहा ये बहुत घातक बीमारी नहीं है।