एलन मस्क की टेस्ला पर मुकद्दमा, 500 कर्मियों को बगैर नोटिस पीरियड के निकाला

एलन मस्क की टेस्ला पर मुकद्दमा, 500 कर्मियों को बगैर नोटिस पीरियड के निकाला


Ro No. 12059/86



Ro No. 12059/86



Ro No. 12059/86

नई दिल्ली । टेस्ला के पूर्व कर्मचारियों ने कंपनी पर मुकद्दमा दर्ज कराया है। उनका कहना है कि कंपनी का बड़े स्तर पर छंटनी का फैसला कानून का उल्लंघन है क्योंकि कर्मचारियों को इसकी पूर्व सूचना नहीं दी गई थी।
यह मुकद्दमा जॉन लिंच और डेक्स्टन हार्ट्सफील्ज ने किया है जिन्हें 10 और 15 जून को नौकरी से निकाल दिया गया था। अब वह कंपनी से 60 दिन के नोटिस पीरियड के बदले भुगतान और बेनेफिट्स मांग रहे हैं। उनका दावा है कि उन्हें कंपनी की गीगा फैक्ट्री से निकाला गया है।
मुकद्दमे में दावा किया गया है कि नेवाडा स्थित टेस्ला की गीगा फैक्ट्री से 500 लोगों को निकाला गया है। मुकद्दमा दर्ज कराने वाले कर्मचारियों ने कहा है कि कंपनी ने वर्कर एडजस्टमेंट ऐंड रिटेर्निंग नोटिफिकेशन एक्ट के तहत कर्मचारियों को 60 दिन का नोटिस न देकर कानून का उल्लंघन किया है। वे उन सभी टेस्ला कर्मचारियों के लिए न्याय मांग रहे हैं जिन्हें मई और जून में बगैर किसी पूर्व सूचना के कंपनी से निकाल दिया गया। मुकदमे के अनुसार टेस्ला ने बस कर्मचारियों को बता दिया कि उनकी सेवाएं तत्काल प्रभाव से समाप्त की जाती हैं।
टेस्ला ने इन आरोपों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। हालांकि टेस्ला के प्रमुख एलन मस्क ने कुछ दिन पहले ही कहा था कि अर्थव्यस्था अभी खराब दौर में जाती दिख रही है और उन्हें करीब 10 फीसदी कर्मचारियों को काम से निकालना होगा। रॉयटर्स के अनुसार इस बीच 20 से अधिक लोगों ने कहा है कि वह टेस्ला के पूर्व कर्मचारी हैं और उन्हें इसी महीने नौकरी से निकाला गया है।